योगी के मंत्रिमंडल में पांच-छह नए चेहरों की हो सकती है ताजपोशी, उम्रदराज मंत्रियों को आराम दिए जाने के है आसार

- पिछले वर्ष 19 अगस्त को मंत्रिमंडल में विस्तार करते हुए 18 नए मंत्री शामिल किए गए थे।

By: Neeraj Patel

Published: 14 Nov 2020, 08:51 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार की नजर अब यूपी में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में 2017 वाली बंपर जीत दोहराने पर है। प्रदेश में संगठन और सरकार में समायोजन करते हुए नए चेहरों को शामिल किए जाने की चर्चा तेज हो गई है। योगी के मंत्रिमंडल में 6 पद खाली हैं जिन पर पांच छह नए चेहरों की ताजपोशी हो सकती है। संभव यह है भी है कि मौजूदा मंत्रियों में से भी किसी की विदाई हो जाए।

यूपी में आठ विधानसभा सीटें खाली हुई जिनमें से सात पर उपचुनाव हुए और 6 पर भाजपा ने जीत दोहराई है। चर्चा है कि मुख्यमंत्री योगी अपने मंत्रिमंडल में विस्तार कर सकते हैं क्योंकि अभी छह मंत्रियों की जगह खाली है, इनमें चार पहले से रिक्त थे जबकि दो जगह कैबिनेट मंत्री रहे चेतन चौहान और कमला रानी वरुण के निधन से खाली हो गई। कुछ नए चेहरों का समायोजन जातीय समीकरण को देखते हुए किए जाने की तैयारी है माना यही जा रहा है कि प्राथमिकता दलित और पिछड़ों को दी जाएगी। पिछले वर्ष 19 अगस्त को मंत्रिमंडल में विस्तार करते हुए 18 नए मंत्री शामिल किए गए थे।

वहीं कई मंत्रियों को हटाया गया था वर्तमान में कुल 54 मंत्री हैं, जिनमें 23 कैबिनेट 9 स्वतंत्र प्रभार और 22 राज्यमंत्री हैं। संभावना है कि इनमें से जिन मंत्रियों के नाम विवादों में आए हैं या किसी भी प्रकार की शिकायत है उन्हें किनारे कर दिया जाए उम्रदराज मंत्रियों को आराम दिए जाने के भी आसार हैं। इनके स्थान पर ऊर्जावान युवा चेहरों की तरजीह दी जा सकती है। इसके साथ ही सरकार और संगठन के सामने विधान परिषद चुनाव पंचायत चुनाव और 2022 में विधानसभा चुनाव में जातिगत प्रभाव रखने के लिए विधायकों को संगठन में भी समायोजित किया जाएगा। मोर्चा और प्रकोष्ठों के पद अभी खाली है इसलिए रास्ते खुले हुए हैं।

BJP
Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned