...ताकि यूपी में दोबारा तेजी न पकड़ सके कोरोना संक्रमण, प्रदेशभर में आज से शुरू हुई फोकस सैंपलिंग

प्रदेश में आने वाले त्योहारों और सर्दियों को देखते हुए कोरोना संक्रमण दोबारा तेजी न पकड़े इसके लिए आज से फोकस सैम्पलिंग का विशेष अभियान चलाया जा रहा है।

लखनऊ. प्रदेश में आने वाले त्योहारों और सर्दियों को देखते हुए कोरोना संक्रमण दोबारा तेजी न पकड़े इसके लिए आज से फोकस सैम्पलिंग का विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इसमें दुकानों, रेस्टोरेंट, ब्यूटी पार्लर, धार्मिक स्थलों के लोगों के नमूने लिए जाएंगे। इसके तहत हर जिले में रोजाना 30 फीसदी आरटीपीसीआर और 50 फीसदी एंटीजन टेस्ट किए जाएंगे। 15 दिनों के इस विशेष अभियान के लिए प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों को दिशानिर्देश भी जारी कर दिए गए हैं।

ताकि दोबारा तेजी न पकड़े संक्रमण

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद के मुताबिक पड़ोस के राज्यों और कई देशों में कोरोना संक्रमण दोबारा फैल रहा है। ऐसे में यूपी में केस ज्यादा न बढ़ें, इसलिए ऐसे लोग जो लोगों से ज्यादा मिलते-जुलते हैं, सरकार ने उनकी जांच करने का फैसला लिया है। जिससे कोरोना संक्रमितों को बाजार से हटाया जा सके। जिससे उनके संपर्क में आने से दूसरे लोगों में संक्रमण फैलने से रोका जा सके। जून में भी इसी तरह का अभियान चलाया गया था। उन्होंने बताया कि होम आइसोलेशन के रोगियों के संपर्क में आने वाले लोगों को आइवरमेक्टिन दवा दी जाएगी। पहले, चौथे और सातवें दिन रोगियों के घरों की विजिट भी की जाएगी। मौतें रोकने के लिए डेथ ऑडिट गंभीरता से करने के निर्देश दिए गए हैं।

उन तारीखों में लिये जाएंगे नमूने

29 अक्तूबर को टैम्पो, थ्री व्हीलर्स, रिक्शा चालक, 30 को मेहंदी और ब्यूटी पार्लर, 31 अक्तूबर को मिठाई की दुकानों, 1 नंवबर को रेस्टोरेंट, 2 नवंबर को धर्म स्थलों, 3 नवंबरों को मॉल कर्मियों और सिक्योरिटी स्टाफ, 4 नवंबर को गाड़ियों और इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकानों, 5 नवंबर को पटरी दुकानदारों, 6 नवंबरों को पटाखा बाजार, सब्जी और फल बेचने वालों, 7 नवंबर को धर्म स्थलों, 8 नवंबर को मिठाई की दुकानों, 9 नवंबर को पटरी दुकानदारों, दीया, गिफ्ट बेचने वालों, 10 नवंबर को पटाखा बाजार, फल और सब्जी विक्रेताओं, 11 नवंबर को मॉल कर्मियों और सिक्योरिटी स्टाफ और 12 नवंबर को इलेक्ट्रॉनिक्स बाजार और गाड़ियों के शोरूम कर्मचारियों के नमूने लिए जाएंगे।

एंटीजन रिपोर्ट आएगी निगेटिव तो होगी आरटीपीसीआर जांच

स्वास्थ्य विभाग नवंबर-दिसंबर में कोरोना संक्रमण को बढ़ने से रोकने के लिए स्वास्थ्यकर्मियों और कोविड हेल्प डेस्क पर पहचान किए गए लक्षणयुक्त लोगों की जांच कराएगा। एंटीजन रिपोर्ट निगेटिव मिलने पर लोगों की आरटीपीसीआर जांच भी प्रमुखता से कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं। सभी पॉजिटिव केस के संपर्क में आने वाले 25 लोगों का पता लगाकर उनकी जांच की जाएगी। सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में इन्फ्लुएंजा लाइक इलनेस (आईएलआई) और सीवियर एक्यूट रेस्पेरेटरी इलनेस (एसएआरई) के मामलों और गंभीर मरीजों की कोविड जांच होगी। बालगृहों, नारी निकेतनों, बंदीगृहों, वृद्धाश्रमों में भी बराबर जांच कराई जाएगी। कोरोना टीकाकरण के लिए सरकारी और प्राइवेट स्वास्थ्य कर्मियों की सूची तैयार करने और सभी जिलों में 15 दिसंबर तक कोल्ड चेन बनाने के भी निर्देश दिए गए हैं।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned