रेप का आरोप लगाने वाली महिला ने पूर्व खनन मंत्री को दी क्लीन चिट, कहा- गायत्री प्रजापति ने नहीं किया था बलात्कार

रेप का आरोप लगाने वाली महिला ने पूर्व खनन मंत्री को दी क्लीन चिट, कहा- गायत्री प्रजापति ने नहीं किया था बलात्कार

Hariom Dwivedi | Updated: 23 Jul 2019, 07:35:14 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

- Gayatri Prasad Prajapati पर रेप का आरोप लगाने वाली महिला बयान से पलटी
- पीड़िता का आरोप- गायत्री प्रजापति के सहयोगियों ने किया रेप
- रेप के आरोप में जेल में बंद है गायत्री प्रसाद प्रजापति

लखनऊ. समाजवादी पार्टी की सरकार में खनन मंत्री रहे गायत्री प्रसाद प्रजापति ( Gayatri Prasad Prajapati) के लिए राहत भरी खबर है। बलात्कार के जिन आरोपों (Gayatri Prasad Prajapati Rape Case) में वह जेल की सलाखों के पीछे हैं, आरोप लगाने वाली महिला अपने बयान से पलट गई है। प्रयागराज के एमपी-एमएलए कोर्ट में महिला ने पूर्व मंत्री लगाये आरोपों को वापस ले लिया है। महिला ने गायत्री प्रसाद प्रजापति को क्लीन चिट देते हुए कहा कि बलात्कार पूर्व मंत्री ने नहीं, बल्कि उनके सहयोगी रहे दो लोगों ने बलात्कार किया था।

महिला ने कहा कि पूर्व मंत्री के दो सहयोगियों ने बलात्कार की साजिश रची थी। वह न तो गायत्री प्रजापति के होटल गई थी और न ही उनके विधायक आवास पर। महिला ने कहा कि राठ निवासी राम सिंह व उसके साथियों ने दिल्ली और लखनऊ के होटल में ले जाकर दुष्कर्म किया था और अब ब्लैकमेल कर रहा है। उसके खिलाफ राठ में रिपोर्ट दर्ज है।

यह भी पढ़ें : अवैध खनन मामले में ईडी ने पूर्व मंत्री गायत्री से एक घंटे तक की पूछताछ

क्या था पूरा मामला
उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले चित्रकूट में कर्वी निवासी महिला ने पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति पर दुष्कर्म का आरोप लगाकर यूपी की सियासत में हड़कम्प मच गया था। उसका कहना था कि 2014 में नौकरी दिलाने के बहाने तत्कालीन मंत्री ने उसे अपने आवास पर बुलाया औऱ फिर धोखे से नशीला पदार्थ पिलाकर उसका रेप किया। इसमें पूर्व मंत्री के सहयोगी भी शामिल रहे। इतना ही नहीं आरोपितों ने अश्लील क्लिप बना ली, जिसे वायरल करने की धमकी देकर रेप करते रहे। पूर्व मंत्री ने उसकी नाबालिग बेटी से दुष्कर्म करने की कोशिश की। पीड़िता ने थाने में तहरीर दी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई तो हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया, वहां भी याचिका खारिज हो गई। इसके बाद पीड़ित महिला सुप्रीम कोर्ट गई। उच्चतम न्यायालय के आदेश पर पुलिस ने लखनऊ थाने में मुकदमा दर्ज जांच शुरू कर दी। जांच के दौरान पूर्व मंत्री को जेल भी जाना पड़ा।

यह भी पढ़ें : लोकसभा चुनाव में हार के बाद अखिलेश यादव को एक और झटका, इस बड़े नेता छोड़ी पार्टी, थाम लिया भाजपा का दामन

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned