गोरखपुर कांड में दोषियों को छोड़ा नहीं जाएगा- श्रीकांत शर्मा

बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज गोरखपुर में ऑक्सीजन न मिलने के कारण 60 से अधिक बच्चों की जान चली गई

By: Santoshi Das

Published: 18 Aug 2017, 12:32 PM IST

लखनऊ। बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज गोरखपुर में ऑक्सीजन न मिलने के कारण 60 से अधिक बच्चों की जान चली गई. बच्चों के साथ बरती गई इस लापरवाही के कारण भारतीय जनता पार्टी चारों तरफ से घिर चुकी है. विपक्षी दल सीएम योगी आदित्यनाथ पर निशाना साध रहे हैं. योगी के संसदीय क्षेत्र में हुई इतनी बड़ी घटना पर जनता का आक्रोश फूट रहा है. इस बारे में जब ऊर्जा मंत्री और यूपी सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत से बातचीत किया गया तो उन्होंने कहा मामले के दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा।

बीआरडी कॉलेज में अचानक ऑक्सीजन सिलेंडर की सप्लाई बंद करने से हॉस्पिटल में भर्ती तकरीबन 60 से अधिक बच्चे मौत के मुंह में समा गए थे. एक साथ हुए इतने बच्चों की मौत पर हॉस्पिटल प्रसाशन कठघरे में तो खड़ा है साथ ही सरकार के पास भी इस घटना के बारे में जवाब देने को नहीं मिल रहा.

श्रीकांत शर्मा बोले चीफ सीक्रेटरी कर रहे जांच
यूपी सरकार के प्रवक्ता ने इस घटना पर दुःख जताते हुए कहा कि इस मामले की जांच चीफ सेक्रेटरी स्तर पर चल रही है. इस मामले दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।

डीएम ने सौंपी रिपोर्ट
हॉस्पिटल में 10 और 11 अगस्त को बच्चों की मौत का सिलसिला शुरू हुआ था. एक के बाद एक करके 60 से अधिक बच्चों की मौत हुई.इस मामले में तत्कालीन प्रधानाचार्य समेत कई वरिस्ठ अधिकारीयों और कर्मचारियों पर गाज गिरी।गोरखपुर के डीएम राजीव रौतेला द्वारा गठित पांच सदस्यीय जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि ऑक्सीजन आपूर्तिकर्ता कम्पनी मेसर्स पुष्पा सेल्स प्राइवेट लिमिटेड ने ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित कर दी जिसके लिए वह जिम्मेदार है. उसे ऐसा नहीं करना चाहिए था. इस रिपोर्ट में यह सामने आया कि मेडिकल कॉलेज के एक्यूट इंसेफ्लाइटिस सिंड्रोम वार्ड के नोडल अधिकारी डॉक्टर कफील खान ने एनेस्थीसिया विभाग के प्रमुख डॉक्टर सतीश कुमार को वार्ड का एयर कंडीशनर खराब होने की लिखित सूचना दी थी. जिसे समय पर ठीक नहीं किया गया. डॉक्टर सतीश 11 अगस्त को बगैर किसी सूचना के गायब पाए गए. डॉक्टर सतीश को वार्ड में ऑक्सीजन की निर्बाद आपूर्ति के लिए जिम्मेदार माना गया.

Show More
Santoshi Das
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned