scriptGovernment came forward to help the filariasis victims | फाइलेरिया पीड़ितों की मदद को आगे आए सरकार | Patrika News

फाइलेरिया पीड़ितों की मदद को आगे आए सरकार

फाइलेरिया सपोर्ट ग्रुप ने सीफार के सहयोग से दिव्यांगजन कल्याण अधिकारी को सौंपा अनुरोध पत्र

लखनऊ

Updated: December 07, 2021 07:08:03 pm

लखनऊ,फाइलेरिया ग्रसित मरीजों की मदद के लिए बने “फाइलेरिया सपोर्ट ग्रुप” के सदस्यों ने सोमवार को सेंटर फार एडवोकेसी एंड रिसर्च (सीफार) संस्था के सहयोग से दिव्यांगजन कल्याण अधिकारी को अनुरोध पत्र सौंपा । पत्र के माध्यम से फाइलेरिया से ग्रसित और दिव्यांग हुए लोगों को सरकारी मदद दिलाने में सहयोग की मांग की गई।
फाइलेरिया पीड़ितों की मदद को आगे आए सरकार
फाइलेरिया पीड़ितों की मदद को आगे आए सरकार
माँ चंद्रिका देवी और ब्रह्मदेव सपोर्ट ग्रुप के सदस्यों की ओर से दिव्यांगजन कल्याण अधिकारी कमलेश कुमार वर्मा को अनुरोध पत्र सौंपा गया। बक्शी का तालाब ब्लॉक के हरदौरपुर गाँव के माँ चंद्रिका देवी सपोर्ट ग्रुप की सदस्य माया देवी और मोतीलाल ने ज्ञापन के माध्यम से फाइलेरिया रोगियों का दर्द साझा किया। हरदौरपुर गाँव के 45 वर्षीय मोतीलाल ने कहा कि वह पिछले 10 वर्षों से फाइलेरिया (हाथी पाँव) से पीड़ित हैं। उनके दोनों ही पैर इससे प्रभवित हैं और पैरों का वजन लगभग 13 किलोग्राम है।इससे उनका उठना-बैठना और चलना-फिरना मुश्किल हो गया है। वह कोई काम नहीं कर सकते हैं, इसलिए वह अपने भाई पर निर्भर हैं । उनका विवाह भी नहीं हो पाया है । यहाँ तक कि मजबूरी में शौच क्रिया भी खड़े होकर करनी पड़ती है।
अगर सरकारी योजना के तहत उन्हें ट्राई साइकिल मिल जाती और कमोड वाले शौचालय की व्यवस्था हो जाती तो उनका जीवन कुछ आसान बन जाता। इसी गाँव के ब्रह्मदेव सपोर्ट ग्रुप के अध्यक्ष 37 वर्षीय सोनपाल ने कहा कि वह 16 साल से पैरों की सूजन ( हाथी पाँव) और हाइड्रोसील से ग्रसित हैं | एक पैर का वजन लगभग 10 किलोग्राम है। उन्हें किसानी और रोजमर्रा के काम करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। उनकी सरकार से मांग है कि उनके जीवनयापन के लिए आर्थिक मदद की जाए या किसी योजना से जोड़कर उनकी कमाई की कोई व्यवस्था की जाए। दिव्यांगता प्रमाणपत्र न मिल पाने से इन लोगों में मायूसी भी है।
फाइलेरिया एक ऐसी गंभीर बीमारी है, जो व्यक्ति को पूरी तरह से या फिर आंशिक रूप से दिव्यांग बना देती है। कई बार तो यह बीमारी इस कदर अपना असर दिखाती है कि व्यक्ति के लिए दैनिक क्रियाएं और रोजमर्रा के काम करना भी मुश्किल हो जाता है और पीड़ित व्यक्ति पूरी तरह से दूसरों पर निर्भर हो जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.