1 जुलाई से खुल रहे प्राइमरी स्कूल, शिक्षक दीक्षा ऐप से पूरा करेंगे प्रशिक्षण

कोरोना वायरस (Corona Virus) से लागू लॉकडाउन (Lockdown) के बाद एक जुलाई से प्रदेश के सरकारी प्राइमरी स्कूल (Primary Schools) खोले जाने की योजना है

By: Karishma Lalwani

Updated: 23 Jun 2020, 09:24 AM IST

लखनऊ. कोरोना वायरस (Corona Virus) से लागू लॉकडाउन (Lockdown) के बाद एक जुलाई से प्रदेश के सरकारी प्राइमरी स्कूल (Primary Schools) खोले जाने की योजना है। लेकिन यह स्कूल केवल शिक्षकों के लिए खोले जाएंगे। यानी कि छात्रों को अभी भी घर बैठे ही पढ़ाई करनी होगी। इस संबंध में बेसिक शिक्षा विभाग महानिदेशक विजय किरन आनंद ने आदेश जारी किया है। उन्होंने कहा है कि एक जुलाई से शिक्षक व प्रधानाध्यापक स्कूलों में मौजूद रह कर जरूरी काम पूरे करेंगे।

दीक्षा ऐप से पूरा करेंगे प्रशिक्षण

महानिदेशक विजय किरन आनंद ने कहा है कि शिक्षक 6 से 14 साल तक के बच्चों का प्रवेश दाखिला कराएंगे। दीक्षा ऐप के जरिए शिक्षकों को अपना प्रशिक्षण पूरा करना होगा। वहीं राज्य सरकार द्वारा विकसित आधारशिला, ध्यानाकर्षण और प्रशिक्षण संग्रह काएक जुलाप्रशिक्षण भी प्रस्तावित है। इसका प्रशिक्षण 20 जुलाई से खण्ड शिक्षा अधिकारी 25-25 शिक्षकों का बैच बना कर देंगे।

यूनिफॉर्म संबंधी कार्य भी करना होगा पूरा

शिक्षकों को इस बीच बच्चों की यूनिफॉर्म संबंधी कार्य भी पूरा करना होगा। सरकारी प्राइमरी स्कूलों में बच्चों की नाप का यूनिफार्म बनाया जाता है। वहीं समर्थ ऐप के जरिए दिव्यांग बच्चों का नामांकन ऐप पर किया जाना है। इसके लिए शिक्षकों को गांवों व मजरों में घूम कर ऐसे बच्चों को ऐप पर पंजीकृत करना है। इनके लिए शैक्षणिक योजना तैयार करना है। मानव संपदा पोर्टल पर उपलब्ध ब्यौरों का सत्यापन और यू डायस डाटा को भी सही करने का काम इस बीच किया जाएगा।

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन के बाद आ गई परीक्षा की तारीख, 30 जून के बाद शुरू होगी सेमेस्टर परीक्षाएं, 29 जुलाई को बीएड प्रवेश परीक्षा

coronavirus COVID-19
Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned