गोरखनाथ मंदिर में लगेगी ग्रीनवेस्ट रिसाइकिल मशीन, अपशिष्ट पूजन सामग्री से बनेगी खाद

गोरखनाथ मंदिर में पूजन सामग्री को रिसाइकिल कर उससे कम्पोस्ट खाद बनाने के लिए एक ग्रीन वेस्ट रिप्रोसेसर मशीन लगाई जाएगी।

By: Laxmi Narayan

Updated: 11 Dec 2017, 06:20 PM IST

लखनऊ. गोरखनाथ मंदिर में पूजन सामग्री को रिसाइकिल कर उससे कम्पोस्ट खाद बनाने के लिए एक ग्रीन वेस्ट रिप्रोसेसर मशीन लगाई जाएगी। पीएचडी चैंबर ऑफ कामर्स गोरखनाथ मंदिर को यह मशीन दान करेगी। जनवरी महीने में यह मशीन मंदिर परिसर में स्थापित कर दिया जाएगा। इस मशीन की स्थापना के लिए पीएचडी चैंबर ऑफ कामर्स एण्ड इंडस्ट्री की गोरखनाथ मंदिर प्रबंधन के बीच सहमति बन चुकी है। चैंबर के टूरिज्म चेयरमैन मुकेश गुप्ता ने बताया कि उत्तर प्रदेश के सभी प्रमुख धार्मिक स्थलों पर इस तरह की मशीनें लगाई जाएंगी।

8 से 25 लाख कीमत की हैं मशीनें

दरअसल धार्मिक स्थलों पर पूजन सामग्री के रूप में हर रोज भारी मात्रा में चढ़ावा आता है। इनमें से बहुत सारी सामग्री ऐसी होती हैं जिनके दुबारा उपयोग संभव नहीं हो पाता। इन पूजन सामग्रियों को एकत्र कर आमतौर पर नदियों में बहा दिया जाता है। कई बार इन्हें सामान्य कचरे के साथ फेक दिया जाता है। इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए धार्मिक स्थलों पर ग्रीनवेस्ट रिप्रोसेसर मशीनों को लगाने की शुरुआत हुई है। इन मशीनों की कीमत 8 लाख से लेकर 25 लाख रूपये तक की है।

सभी धार्मिक स्थलों पर मशीन लगाने की है योजना

मुकेश गुप्ता ने बताया कि इन मशीनों की मदद से अपशिष्ट पदार्थ को कम्पोस्ट खाद या हवन सामग्री का निर्माण किया जा सकता है। इस तरह की मशीन दिल्ली के निगम बोध घाट पर लगाई गई है। गोरखनाथ मंदिर में अगले महीने इस मशीन की स्थापना की जाएगी। इसके बाद अगले चरण में वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर में भी इस तरह के मशीन की स्थापना की योजना है। क्रमबद्द रूप से सभी धार्मिक स्थलों पर इस तरह के मशीनों को स्थापना की कोशिश है जिससे धार्मिक स्थलों पर गंदगी कम करने में मदद मिले और इन अपशिष्ट पदार्थों को रिसाइकिल कर उनका उपयोग किया जा सके।

Laxmi Narayan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned