Atmanirbhar UP Rojgar Abhiyan: जानें अभियान से जुड़ी 5 बड़ी बातें

पीएम मोदी ने कोरोना संक्रमण जैसी गंभीर परिस्थितियों में वातावरण को अनुकूल बनाए रखने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की रणनीति की तारीफ कर उनके काम को सराहा

By: Karishma Lalwani

Published: 26 Jun 2020, 06:14 PM IST

लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शुक्रवार को आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने सवा करोड़ लोगों को रोजगार देने की बात कही। पीएम मोदी ने कोरोना संक्रमण जैसी गंभीर परिस्थितियों में वातावरण को अनुकूल बनाए रखने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की रणनीति की तारीफ कर उनके काम को सराहा। आत्मनिर्भर योजना को लॉन्च करने के दौरान पीएम मोदी ने रोजगार समेत कई मुद्दों पर अपनी बात कही।

यूपी ने विकास के लिए शुरू की ये योजना

पीएम मोदी ने आत्मनिर्भर योजना में रोजगार पाने वालों को संबोधित कर कहा कि दूसरे राज्य कोरोना वायरस से लड़ाई में जूझ रहे हैं जबकि यूपी सरकार ने अपने विकास राज्य के लिए इतनी बड़ी योजना शुरू कर दी है।

घर लौटे श्रमिकों के लिए योजना

यूपी में 30 लाख से अधिक प्रवासियों की वापसी व लॉकडाउन के दौरान काम बंद होने से बेरोजगार हुए कामगारों के समायोजन के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने अफसरों से व्यापक कार्ययोजना बनाने को कहा था। योगी सरकार ने मनरेगा, एमएसएमई, ओडीओपी, निर्माण परियोजनाओं व ग्राम्य विकास से जुड़े विभिन्न कार्यक्रमों को केंद्रित कर 1.25 करोड़ लोगों के रोजगार का रास्ता तलाशा है। इसी योजना को अमलीजामा पहनाने की शुरुआत शुक्रवार से की जाएगी।

यूपी के 31 जिले अभियान का हिस्सा

अभियान में यूपी के 31 जिलों की 32,300 ग्राम पंचायतों को शामिल किया गया है। इन जिलों में सिद्धार्थनगर, प्रयागराज, गोंडा, महराजगंज, बहराइच, बलरामपुर, जौनपुर, हरदोई, आजमगढ़, बस्ती, गोरखपुर, सुलतानपुर, कुशीनगर, संतकबीरनगर, बांदा, अम्बेडकरनगर, सीतापुर, वाराणसी, गाजीपुर, प्रतापगढ़, रायबरेली, अयोध्या, देवरिया, अमेठी, लखीमपुर खीरी, उन्नाव, श्रावस्ती, फतेहपुर, मीरजापुर, जालौन और कौशाम्बी शामिल हैं।

दो गज की दूरी से रोकेंगे कोरोना

कोरोना संकट पर पीएम मोदी ने कहा कि किसी ने नहीं सोचा था कि एक दिन पूरी मानव जाति पर एक साथ इतना बड़ी मुसीबत आ जाएगी। किसी को नहीं पता कि इस बीमारी से कब मुक्ति मिलेगी। इसकी एक दवाई हमें पता है। ये दवाई है दो गज की दूरी है। ये दवाई है- मुंह ढकना, फेसकवर या गमछे का इस्तेमाल करना। जब तक कोरोना की वैक्सीन नहीं बनती, हम इसी दवा से इसे रोक पाएंगे।

कोरोना पर यूपी की तुलना विदेश से

प्रधानमंत्री ने कहा, 'राज्य सरकार ने कोरोना से लड़ने के लिए बेहद अच्छा काम किया। आंकड़ों की तुलना से पता चलता है। हम यूरोप के चार बड़े देश इंग्लैंड, फ्रांस, इटली और स्पेन 200 से 250 साल पहले दुनिया में सुपर पावर हुआ करते थे। आज भी इनका दबदबा है। इनकी आबादी 24 करोड़ है। हमारी तो अकेले यूपी की जनसंख्या 24 करोड़ है। कोरोना से इन चार देशों में 1 लाख 30 हजार लोगों की मौत हुई है, जबकि उत्तरप्रदेश में केवल 600 लोगों की जान गई।'

ये भी पढ़ें: योगी ने आपदा को अवसर में बदला, यूरोप के 4 देशों के बराबर यूपी की आबादी लेकिन कोरोना से सिर्फ 600 मौतें

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned