scriptHightech township will develop at these city of uttar Pradesh | यूपी के पांच शहरों में हाईटेक टाउनशिप बनाएगी सरकार, आसानी से मिलेंगे मकान | Patrika News

यूपी के पांच शहरों में हाईटेक टाउनशिप बनाएगी सरकार, आसानी से मिलेंगे मकान

प्रदेश के इन पांच शहरों में आवास की बड़ी डिमांड है इस डिमांड को पूरा करने के लिए योगी सरकार हाईटेक टाउनशिप डेवलेप करने के लिए योजाना तैयार कर रह है। शासन स्तर पर इसकों लेकर रिपोर्ट तैयार की जा रही है। अनुमान है कि सरकार आगामी विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश के पांच शहरों में बनने वाली हाईटेक टाउनशिप को लेकर फैसला ले सकती है। इस के फैसले के बाद पांचों शहरो में हाईटेक टाउनशिप के तहत सुविधाजनक मकान बनाए जाएंगे।

लखनऊ

Published: November 28, 2021 11:10:59 am

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के पांच शहर गाजियाबाद, मथुरा, बुलंदशहर, प्रयागराज व लखनऊ में हाईटेक टाउनशिप योजना को लेकर योगी आदित्यनाथ की सरकार जल्द फैसला ले सकती है। फैसले के बाद सरकार 12,665 भूमि पर हाईटेक टाउनशिप का निर्माण करेगी। टाउनशिप के निर्माण के बाद उत्तर प्रदेश में आवासों की जरूरत को पूरा करने का काम किया जाएगा। टाउनशिप के निर्माण के बाद लोगों को इन पांच शहरों में आसानी से हाईटेक मकान मिल सकेंगे।
colony.jpg
सरकार जल्द से सकती है फैसला

प्रदेश के इन पांच शहरों में आवास की बड़ी डिमांड है इस डिमांड को पूरा करने के लिए योगी सरकार हाईटेक टाउनशिप डेवलेप करने के लिए योजाना तैयार कर रह है। शासन स्तर पर इसकों लेकर रिपोर्ट तैयार की जा रही है। अनुमान है कि सरकार आगामी विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश के पांच शहरों में बनने वाली हाईटेक टाउनशिप को लेकर फैसला ले सकती है। इस के फैसले के बाद पांचों शहरो में हाईटेक टाउनशिप के तहत सुविधाजनक मकान बनाए जाएंगे।
हाईटेक के साथ बनेगी आवासीय टाउनशिप

उत्तर प्रदेश में वर्ष 2304 में सपा सरकार ने पंद्रह सौ एकड़ जमीन पर हाईटेक टाउनशिप निर्माण का फैसला लिया था, लेकिन इसके बाद सरकारों ने हाईटेक टाउनशिप योजना पर कोई खास दिलचस्पी नहीं ली जिसके चलते इस योजना से 22608 एकड़ भूमि को इस योजना से अलग कर दिया गया है। अब इस भूमि पर अन्य टाउनशिप के निर्माण का रास्ता साफ हो गया है यहां उत्तर प्रदेश में 5 शहरों में 12665 एकड़ भूमि पर हाईटेक टाउनशिप का निर्माण किया जाएगा वहीं 22608 एकड़ भूमि पर आवासी कालोनियां विकसित की जाएंगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.