Hindi Diwas 2018 : आज भी पूरा नहीं हुआ बापू का ये सपना, अटल ने बताई थी बड़ी वजह !

Hindi Diwas 2018 : आज भी पूरा नहीं हुआ बापू का ये सपना, अटल ने बताई थी बड़ी वजह !

Mahendra Pratap Singh | Publish: Sep, 14 2018 02:10:22 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

Hindi Diwas 2018 : आज 14 सितंबर को हिन्दी दिवस पूरे उत्तर प्रदेश सहित अन्य सभी राज्यों में मनाया जा रहा है।

 

लखनऊ. आज 14 सितंबर को हिन्दी दिवस पूरे उत्तर प्रदेश सहित अन्य सभी राज्यों में मनाया जा रहा है। अटल ने दिन्दी भाषा को लेकर कहा था कि देश में आज भी बापू का सपना पूरा नहीं पाया है। जिसकी वजह अटल ने बताई थी।

सपना बनकर रह गया बापू का सपना

उन्होंने कहा था कि वो साल 1918 था, आज 2018 है, सौ साल हो चुके हैं। लेकिन आज तक बापू गांधी के एक सपने को कोई भी सरकार पूरा नहीं कर पाई है। बताया जाता है कि महात्मा गांधी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के अपने सपने की घोषणा की थी। फिर देश आजाद हुआ और आज इस घोषणा को 100 साल बीत गए लेकिन बापू का सपना एक सपना ही बनकर रह गया है।

हिंदी साहित्य समिति के अध्यक्ष हरेराम वाजपेयी का कहना है कि कोई भी सरकार बापू के इस सपने को पूरा नहीं कर सकी। इस पर वाजपेई ने कहा था कि आजादी तक राष्ट्रभाषा कही जाने वाली हिंदी संविधान लागू होते ही राजभाषा बन गई। हिंदी के प्रति अनुराग तो रहा, लेकिन इसे राष्ट्रभाषा बनाने की पहल नहीं की जा सकी है।

हिंदी की राह में रोड़ा है राजनीति

हिंदी दिवस के मौके पर चर्चा में वाजपेई ने कहा था कि जब देश आजाद हुआ तो संविधान लिखते समय में हिंदी सहित 14 भाषाओं को राजभाषा का दर्जा दिया गया। संविधान लागू होते ही राष्ट्रभाषा की जगह हिंदी राजभाषा बन कर रह गई हैं। जब संविधान में संशोधन कर हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने की बात सामने आई तो दक्षिण भारत में इसको लेकर विरोध की लहर उठ गई थी। वे लोग हिंदी को राष्ट्रभाषा घोषित करना उसे खुद पर भार थोपने के समान समझ रहे थे, जबकि इसके पीछे की राजनीति ही थी। स्वतंत्रता के पहले हमारा देश एक था, लेकिन इसके बाद सत्ता में आए लोगों ने इसे बांट दिया है। किसी भी देश की एक ही राष्ट्रभाषा होनी चाहिए और हमारे देश में वह हिंदी ही होनी चाहिए। जो पूरे भारत में बोली जाए।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned