आरडीएसओ महानिदेशक एम हुसैन ने दीप जलाकर राजभाषा प्रदर्शनी का किया उद्घाटन

आरडीएसओ महानिदेशक एम हुसैन ने दीप जलाकर राजभाषा प्रदर्शनी का किया उद्घाटन

Mahendra Pratap | Publish: Sep, 16 2018 12:01:24 PM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 12:11:28 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

आरडीएसओ लखनऊ में राजभाषा हिंदी के प्रचार-प्रसार एवं प्रोत्साहन हेतु हिंदी सप्ताह समारोह मनाया गया

लखनऊ. हिंदी आम बोलचाल की भाषा है। 60 साल पहले ही के दिन हिंदी को ‘राजभाषा’ का दर्जा मिला था। आज भारत में करीब दो-तिहाई लोग हिंदी बोलते हैं। दुनिया में दूसरी सबसे ज़्यादा बोली जाने वाली भाषा है हिंदी ही है। इस सिलसिले में आर.डी.एस.ओ लखनऊ में राजभाषा हिंदी के प्रचार-प्रसार एवं प्रोत्साहन हेतु हिंदी सप्ताह समारोह मनाया गया, जो कि शुक्रवार 14 सितम्बर से शुरु हुआ है और गुरुवार 20 सितम्बर तक मनाया जाएगा। वहीं रेल मंत्री पीयूष गोयल जी का हिंदी दिवस संदेश भी पढ़ा गया।

स्टॉल लगाकर प्रदर्शित किया हिंदी में किए कार्यों को

हंदी दिवस मनाने और इसका महत्व बताने के सिलसिले में महानिदेशक आरडीएसओ. एम. हुसैन ने शुक्रवार को आरडीएसओ के नये आॅडिटोरियम में दीप प्रज्जवलित कर राजभाषा प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। उन्होंने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण करके हिंदी सप्ताह समारोह का शुभारंभ किया। राजभाषा प्रदर्शनी में कार्मिक शाखा, वित्त एवं लेखा, भू-इंजीनियरी, भंडार, परीक्षण, विद्युत लोको और विद्युत आपूर्ति एवं ईएमयू निदेशालयों ने अपने-अपने स्टॉल लगाकर हिंदी में किए कार्यों को प्रदर्शित किया।

सभी कर्मचारियों को किया गया प्रेरित और प्रोत्साहित

मुख्य राजभाषा अधिकारी आर. के. मिश्रा ने हिंदी के प्रचार-प्रसार के संबंध में आर.डी.एस.ओ. में किए गए अभिनव प्रयासों का संक्षिप्त विवरण देते हुए सरकारी कार्य अधिकाधिक हिंदी में करने के लिए सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को प्रेरित एवं प्रोत्साहित किया। महानिदेशक महोदय ने अपने उद्घाटन संबोधन में सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों से राजभाशा नियमों के अनुसार सरकारी कामकाज में हिंदी के अधिकाधिक प्रयोग पर बल दिया।

कवि सम्मेलन का आयोजन और पीयूष गोयल के हिंदी दिवस संदेश को पढ़ा गया

इस अवसर पर एक कवि सम्मेलन का भी आयोजन किया गया, जिसकी प्रेक्षागृह में उपस्थित जनसमूह ने खूब प्रशंसा की। इस अवसर पर रेल मंत्री पीयूष गोयल जी का हिंदी दिवस संदेश भी पढ़ा गया।

ये भी पढ़ें: पांच विभागों के 563 अफसरों की जाएगी नौकरी, भ्रष्टाचार से बनाई है अकूत संपत्ति

Ad Block is Banned