जीएसटी की दरों में कटौती से मकान बनाना होगा सस्ता

सरकार के इस फैसले से कंस्ट्रक्शन के काम में अब और तेजी आएगी।

By:

Published: 10 Nov 2017, 07:53 PM IST

लखनऊ. जीएसटी काउंसिल द्वारा 28 प्रतिशत के दायरे में आने वाले कई उत्पादों को बाहर कर देने का राजधानी के व्यापारियों ने स्वागत किया है। इनमें से कुछ को 28 से 18 तो कुछ को 18 से 12 प्रतिशत कर दिया गया है। लखनऊ के व्यापारियों का कहना है कि संशोधित दरों से अब मकान बनाना सस्ता हो जाएगा। लखनऊ कांट्रेक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेंद्र प्रताप सिंह का कहना है कि सरकार के इस फैसले से कंस्ट्रक्शन के काम में अब और तेजी आएगी। जीएसटी लागू होने के बाद से इस काम की गति काफी धीमी पड़ गई थी, लेकिन सरकार के फैसले के बाद इस काम को गति मिलने की उम्मीद बढ़ गई है।

बिल्डिंग मैटेरियल पर टैक्स दस फीसदी कम

सिंह न बताया कि जीएसटी काउंसिल की बैठक में सरकार ने 177 उत्पादों के टैक्स स्लैब में बदलाव किया है। सरकार ने बिल्डिंग मैटेरियल पर जीएसटी 28 से 18 प्रतिशत कर दिया है। मार्बल, टाइल, सीमेंट, इलेक्ट्रिकल फिटिंग्स और स्विच पर जीएसटी 28 से 18 प्रतिशत कर दिया गया है। टैक्स में 10 प्रतिशत तक की कटौती होने से जल्द ही इन सामानों का दाम कम होने की उम्मीद है, जिसका सीधा असर मकान बनाने पर पड़ेगा। अभी तक 28 प्रतिशत के स्लैब में 227 वस्तुएं थीं। अब सिर्फ 50 वस्तुओं पर ही 28 फीसदी टैक्स लगेगा। उन्होंने कहा कि सरकार का यह फैसला स्वागत योग्य है। सरकार को पहले ही सोच समझ कर निर्णय ले लेना चाहिए था जो आज लिया है।

जनता ज्यादा टैक्स से थी परेशान

गौतरलब है कि जुलाई 2017 से देश में जीएसटी लागू है। इसके तहत 1200 से अधिक वस्तुओं और सेवाओं को 5, 12, 18 और 28 प्रतिशत टैक्स स्लैब में रखा गया है। इससे जनता परेशान थी। जनता की परेशानी को समझते हुए सरकार ने भी माना था कि कुछ वस्तुओं पर 28 प्रतिशत कर की दर नहीं होनी चाहिए। सरकार के इस फैसले से व्यापारियों के साथ-साथ आम लोग भी राहत मिली है। जीएसटी से कई चीजों के दाम बढ़ गए थे, स्टील के बर्तन पर जीएसटी की काफी मार थी, इससे बर्तन व्यापारियों का व्यवसाय मानों चौपट हो गया था।

GST
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned