ऑक्सीजन लेबल कम होने पर घर पर रहकर ऐसे बचा सकते हैं जान, ऐसे बढ़ाएं 10 फीसदी ऑक्सीजन लेवल

90 से 94 के बीच होने पर सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक बताई गई दवाएं ली जा सकती हैं। एसपीओटू अगर 90 से कम होने लगे तो भर्ती होने में देर न करें। भर्ती होने तक घर पर ही ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहें।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

लखनऊ. कोरोना संक्रमण के मामले इस बार पछिली बार की तुलना में बेहद तेजी से बढ़ रहे हैं। मौतों का आंकड़ा भी रिकाॅर्ड बना रहा है। अस्पतालों में वेंटिलेटर के बाद ऑक्सीजन की किल्लत बढ़ती जा रही है, जिसके चलते गंभीर मरीजों की जान बचाना मुश्किल हो गया है। कोरोना की दूसरी लहर खतरनाक इसलिये भी है क्योंकि इसमें देखते ही देखते मरीज का ऑक्सीजन लेबल (एसपीओटी) इतनी तेजी से नीचे गिर रहा है कि जान बचाना मुश्किल हो रहा है। मरीज इतने ज्यादा हैं कि ऑक्सीजन की व्यवस्था कम पड़ गई है। मरीजों की जान बचाने के लिये बेड और ऑक्सीजन की व्यवस्था मुश्किल होती जा रही है। पर विशेषज्ञों का कहना है कि अगर मरीज का ऑक्सीजन लेबल 90 से ऊपर है तो उन्हें भर्ती होने की जरूरत नहीं। गाइडलाइन के मुताबिक कुछ खास उपाय करके घरपर रहकर भी जान बचाई जा सकती है।

 

कोरोना की दूसरी लहर के तेज होते ही लोगों में सबसे बड़ा डर अचानक ऑक्सीजन लेबल के गिर जाने से जान बचाना मुश्किल हो जाने का है। ज्यादातर मरीजों को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ने के चलते ऑक्सीजन की व्यवस्था कम पड़ गई। हालांकि किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज युनिवर्सिटी लखनऊ के रेस्परेट्री मेडिसिन के हेड डाॅ. सूर्यकांत त्रिपाठी की मानें तो 94 और उसके ऊपर के ऑक्सीजन लेबल वालों को सर्ऊ आइवरमेक्टिन व डॉक्सीसाइक्लिन का डोज यूपी सरकार की गाइडलाइन के मुताबकि लेना है।


वहीं ऑक्सीजन स्तर 94 और 90 के बीच होने पर आइवरमेक्टिन और डाॅक्सीसाइक्लिन के साथ स्टेराॅयड (डेक्सामेथासोन मिथइल प्रेडनीसोलोन) इत्यादि में से कोई एक डाॅक्टर के परामर्श से लेनी है। हालांकि उनके मुताबिक ऑक्सीजन लेबल 90 से नीचे जाने पर अस्पताल में भर्ती हो जाना चाहिये। एसपीओटू के 90 के नीचे होने पर भर्ती होना चाहिये। अगर भर्ती में देर हो रही है तब तक डाॅक्टर की गाइडलाइन के मुताबिक ऑक्सीजन सिलिंडर की व्यवस्था घर पर ही कर ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहना चाहिये और दवाएं लेते रहना चाहिये।


वो पेट के बल लेटकर प्रोन वेंटिलेशन करने की सलाह भी दे रहे हैं। उनका कहना है कि सीने के पास मुलायम तकिया लगाकर लेटे हुए लंबी सांस लेने और छोड़ने से पांच से 10 फीसदी तक ऑक्सीजन लेबल बढ़ रहा है।

coronavirus
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned