scriptips asim arun and The bureaucrats join politics | आखिर कौन सी तमन्ना रह गई अधूरी, जो अब राजनीति से होगी पूरी | Patrika News

आखिर कौन सी तमन्ना रह गई अधूरी, जो अब राजनीति से होगी पूरी

अरविंद शर्मा- यूपी की राजनीति में गुजरात कैडर के पूर्व आइएएस अधिकारी अरविंद शर्मा का नाम तेजी से चमका। इन्होंने भी वीआरएस लेकर राजनीति में एंट्री की और भाजपा के टिकट से विधान परिषद के सदस्य बन गए। शर्मा मऊ जिले के रहने वाले हैं।

लखनऊ

Updated: January 10, 2022 07:31:14 pm

लखनऊ. विधानसभा चुनाव 2022 की तारीखों का ऐलान होते ही यूपी के दो ब्यूरोक्रेट्स ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेकर राजनीति की राह पकड़ ली। नौकरशाहों का यह पॉलिटिक्स प्रेम नया नहीं है। इससे पहले यूपी के कई ब्यूरोक्रेट्स राजनीति में किस्मत आजमा चुके हैं। कुछ कामयाब हुए तो कुछ को निराशा हाथ लगी। आइए जानते हैं अफसर से नेता बनने वालों की कहानी-
buerocrates.jpg
कानपुर के कमिश्नर रहे एडीजी और आइपीएस असीम अरुण ने वीआरएस ले लिया। इन्फोर्समेंट डायरेक्ट्रेट (ईडी) लखनऊ जोन के संयुक्त निदेशक राजेश्वर सिंह ने भी वीआरएस ले लिया। अरुण कनौज तो राजेश्वर गाजियाबाद से भाजपा से चुनाव लड़ सकते हैं।
इन अफसरों की चमकी किस्मत

अरविंद शर्मा- यूपी की राजनीति में गुजरात कैडर के पूर्व आइएएस अधिकारी अरविंद शर्मा का नाम तेजी से चमका। इन्होंने भी वीआरएस लेकर राजनीति में एंट्री की और भाजपा के टिकट से विधान परिषद के सदस्य बन गए। शर्मा मऊ जिले के रहने वाले हैं।
कृष्ण करुणा करण नायर-यूपी कैडर के आइएएस व फैजाबाद के डीएम रहे कृष्ण करुणाकरण नायर ने भी वीआरएस लेने के बाद जनसंघ ज्वाइन की और वर्ष 1967 में जनसंघ के टिकट से बहराइच से लोकसभा सदस्य बने।
देवेन्द्र बहादुर राय-1992 में अयोध्या के एसएसपी रहे आइपीएस देवेन्द्र बहादुर राय ने भी राजनीति में किस्मत आजमाई। भाजपा से सांसद बनकर यह भी लोकसभा पहुंचे।

श्री चन्द्र दीक्षित-आइपीएस अधिकारी और बाद में पुलिस महानिदेशक बने श्री चन्द्र ने भी राजनीति में अपनी किस्मत आजमाई। यह भी भाजपा के टिकट से सांसद बने। बाद में विश्व हिन्दू परिषद के उपाध्यक्ष भी रहे।
महेन्द्र सिंह यादव-आइपीएस अधिकारी महेन्द्र सिंह यादव भी वीआरएस लेने के बाद भाजपा से टिकट से विधायक बने। इनकी पत्नी नीरा यादव मुलायम सिंह सरकार में मुख्य सचिव के पद पर थीं।

पीएल पुनिया- आइएएस पन्नेलाल पुनिया ने रिटार्यमेंट के बाद कांग्रेस ज्वाइन की। और बाराबंकी से सांसद चुने गए। अब भी यह कांग्रेस में बड़े पद पर हैं
देवी दयाल- पूर्व आइएएस देवी दयाल ने रिटायर होने के बाद कांग्रेस ज्वाइन की और कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ कर लोकसभा पहुंचे।

बृजलाल-यूपी के डीजीपी रहे पूर्व आइपीएस बृजलाल भी भाजपा के टिकट पर राज्यसभा पहुंचने में कामयाब हुए।
बाबा हरदेव सिंह- पीसीएस एसोसिएशन के अध्यक्ष रहे हरदेव सिंह ने भी आम आदमी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा लेकिन हार का सामना करना पड़ा। वर्तमान में हरदेव सिंह राष्ट्रीय लोकदल को लिए काम कर रहे हैं।
इन अफसरों ने भी आजमाए हाथ

आइएएस रहे राजबहादुर, ओमप्रकाश, आइएएस अनीस अंसारी ने राजनीति में अच्छी पारी खेली। आइपीएस अधिकारी रहे अहमद हसन ने रिटायर होकर समाजवादी पार्टी ज्वाइन की।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Cases In India: देश में 24 घंटे में कोरोना के 2.68 लाख से ज्यादा केस आए सामने, जानिए क्या है मौत का आंकड़ाJob Reservation: हरियाणा के युवाओं को निजी क्षेत्र की नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण आज से लागूUP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण, वर्षों बाद 'मंडल' बनाम 'कमंडल'अलवर दुष्कर्म मामलाः प्रियंका गांधी ने की पीड़िता के पिता से बात, हर संभव मदद का भरोसाArmy Day 2022: क्‍यों मनाया जाता है सेना दिवस, जानिए महत्व और इतिहास से जुड़े रोचक तथ्यभीम आर्मी प्रमुख चन्द्र शेखर ने अखिलेश यादव पर बोला हमला, मुलाकात के बाद आजाद निराशछत्तीसगढ़ में तेजी से बढ़ रहे कोरोना से मौत के आंकड़े, 24 घंटे में 5 मरीजों की मौत, 6153 नए संक्रमित मिले, सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट दुर्ग मेंयूपी विधानसभा चुनाव 2022 पहले चरण का नामांकन शुरू कैराना से खुला खाता, भाजपा के लिए सीटें बचाना है चुनौती
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.