पंयायत चुनाव के प्रत्याशियों को 2022 विधानसभा चुनाव में मौका देगी यह पार्टी, बैठक में किया गया ऐलान

"जिला पंचायत चुनाव में जिन प्रत्याशियों को उतारा जाएगा, उन्हें विधानसभा चुनाव में भी मौका मिलेगा।"

लखनऊ. यूपी में अपनी खोई हुई राजनीतिक जमीन तलाश रही कांग्रेस अब प्रदेश में होने वाले जिला पंचायत चुनाव में हाथ आजमाएगी। यहीं से पार्टी 2022 के विधानसभा चुनाव के लिए अपनी नींव को मजबूत करेगी। जिला पंचायत चुनाव में जिन प्रत्याशियों को उतारा जाएगा, उन्हें विधानसभा चुनाव में भी मौका मिलेगा। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने शनिवार को हुई बैठक में इस ओर इशारा किया। उन्होंने कहा कि जिन लोगों को पंचायत चुनाव में प्रत्याशी बनाया जाएगा, उन्हें बाद के बड़े चुनावों में उतरने का भी मौका दिया जाएगा। इससे कांग्रेस में युवा नेताओं की एक बड़ी फौज खड़ी होगी। कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के सक्रिय होने के बाद अब यूपी में हर चुनाव महत्वपूर्ण है। इसीलिए 1989 के बाद पहली बार कांग्रेस पंचायत चुनाव में भी उतर रही है। 2022 चुनाव से पूर्व कांग्रेस पार्टी पूरी शिद्दत सेपंचायत चुनावों में फतह हासिल करने की कोशिश करेगी, साथ ही जमीनी स्तर पर अपनी पार्टी की स्थिति को भी परखेगी। पार्टी ने 13 सदस्यों का एक ग्रुप भी बनाया है, जिसका काम न सिर्फ चुनावी तैयारी को धार देना है बल्कि पंचायत चुनावों में काबिल उम्मीद्वारों को चुनना भी है।

सौंपी गई जिम्मेदारी-

कांग्रेस ने शनिवार को लखनऊ स्थित पार्टी कार्यालय में हुई बैठक की अध्यक्षता कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने की। जिला पंचायत चुनाव समिति के सदस्यों की बैठक में इस मुद्दे पर गंभीर चर्चाहुई। चुनाव से जुड़ी कई रणनीतियां बनाई गई। बैठक में तय हुआ कि 28 जनवरी से सभी सदस्य एक माह तक अपने प्रभार वाले जिलों का दौरा करेंगे। जिला व ब्लॉक प्रभारी नियुक्त किए जाएंगे व चुनाव में मजबूत प्रत्याशी उतारे जाएंगे। बैठक में चौधरी सत्यवीर सिंह, शशि वालिया, राघवेंद्र सिंह, बृजकिशोर सिंह डिंपल, श्मशाद, सुनील तिवारी, पुष्पेंद्र सिंह मौजूद रहे। उधर, कांग्रेस ने प्रदेश में नागरिक समाज संगठनों के साथ समन्वय बनाने का निर्णय किया है। इस बाबत हुई रचनात्मक कांग्रेस की बैठक में यशवंत सिंह, डॉ. हृदयेश चौधरी और जागृति राही को 6-6 मंडलों में नागरिक समाज संगठन बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गई। वहीं, लखनऊ के उत्तर विधानसभा क्षेत्र में संगठन को मजबूत बनाने के लिए शहर अध्यक्ष मुकेश सिंह चौहान ने समीक्षा की।

प्रियंका चुनाव को लेकर गंभीर-

हालांकि ग्राम पंचायत चुनाव पार्टियों के सिम्बल पर नहीं होते हैं, लेकिन पार्टियां अपने समर्थित उम्मीद्वार के तौर पर हमेशा इन चुनाव में अपनी जीत हासिल करती रही हैं। यही कारण है कि प्रियंका गांधी इस चुनाव को गंभीरता से ले रही हैं। नववर्ष के मौके पर उन्होंने गांव-गांव बधाई संदेश भेजे। पत्रकार, लेखक, सामाजिक व राजनीतिक कार्यकर्ताओं को उनकी ओर से एक करोड़ से ज्यादा पोस्ट कार्ड भेजे गए। इस छोटे से कदम को आगामी पंचायत चुनाव के समीकरण साधने की खास कवायद के रूप में भी देखा जा रहा है। प्रियंका लगातार लोगों से अधिकाधिक संवाद भी स्थापित कर रही हैं।

Congress
Show More
Abhishek Gupta Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned