केजीएमयू में शुरू होगा देश का पहला पीडियाट्रिक आर्थोपैडिक्स विभाग

केजीएमयू में शुरू होगा देश का पहला पीडियाट्रिक आर्थोपैडिक्स विभाग

Laxmi Narayan Sharma | Publish: Jun, 14 2018 04:42:53 PM (IST) | Updated: Jun, 15 2018 04:48:46 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

लखनऊ का केजीएमयू देश का पहला सरकारी संस्थान होगा जिसमें यह विभाग बनने जा रहा है।

लखनऊ. किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में देश का पहला पीडियाट्रिक आर्थोपैडिक्स विभाग खोलने की सरकार ने मंजूरी दे दी है। मेडिकल काउन्सिल ऑफ इण्डिया से इसे पहले ही मंजूरी मिल चुकी है। शताब्दी फेज - 2 में यह विभाग खोला जाएगा। लखनऊ का केजीएमयू देश का पहला सरकारी संस्थान होगा जिसमें यह विभाग बनने जा रहा है। इस समय लिंब सेंटर में पीडियाट्रिक यूनिट चल रही है।

यह भी पढें - कहीं रद्द तो कहीं लेट हो रही ट्रेनें, अब सरकार लोगों को हवाई जहाज से करायेगी सस्ता सफर

छह महीने में शुरू होगा विभाग

यूनिट के हेड प्रोफेसर अजय कुमार के मुताबिक इस यूनिट की शुरुआत 2008 में हुई थी। इसमें फिलहाल 25 बेड की व्यवस्था है। शासन से मंजूरी मिल जाने के बाद इस यूनिट को विभाग में बदला जाएगा। बुधवार को शासन से विभाग के लिए पांच फैकल्टी और तीन एसआर के पद की स्वीकृति का शासनादेश जारी हो गया। अनुमान है कि फैकल्टी की भर्ती और विभाग का सेटअप तैयार करने में लगभग छह महीने का समय लग सकता है।

यह भी पढें - Indian Railways ने 27 जुलाई तक रद्द कर दी कई ट्रेनें, यात्रियों की बढ़ी मुश्किल

बच्चों को मिलेगा बेहतर इलाज

शुरू होने जा रहे विभाग में 100 बेड होंगे। यहां एमसीएच कोर्स की भी शुरुआत होगी। साथ ही एक साल का डिप्लोमा कोर्स भी चलाया जाएगा। अभी तक यूनिट में कूल्हे की उखड़ी हड्डी और टेढ़े पैर की शिकायतें ज्यादा आ रही हैं। बेड कम होने के कारण बच्चों के इलाज में कुछ मुश्किलें सामने आती हैं। विभाग तैयार हो जाने के बाद बेड की संख्या बढ़ जाएगी और बच्चों को बेहतर इलाज मिल सकेगा।

यह भी पढें - पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम की हिफाजत है जरूरी, ज्यादा ऑक्सीजन का करते हैं उत्सर्जन

यह भी पढें - 2019 से पहले सोशल मीडिया बनेगा अखाड़ा, जंग के लिए साइबर योद्धा तैयार कर रही भाजपा

Ad Block is Banned