जानिये कब हो सकता है यूपी के राज्य कर्मचारियों को बोनस का ऐलान

  • केन्द्रीय कर्मचारियों को ऐलान के बाद यूपी के राज्य कर्मचारियों को बोनस का इंतजार
  • 14.2 लाख कर्मचारियों के बोनस पर राज्य सरकार के खजाने पर एक हजार करोड़ के भार का अनुमान

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के 14.2 लाख कर्मचारियों को बोनस का इंतजार है, लेकिन राज्य सरकार की ओर से अभी इसकी घोषणा नहीं की गई है। केन्द्रीय कर्मचारियों को बोनस की घोषणा के बाद उम्मीद जतायी जा रही है कि सूबे के सरकारी कर्मचारियों को भी बोनरस मिलेगा, लेकिन अभी इसके लिये वित्त विभाग को मुख्यमंत्री की सहमति का इंतजार है। कर्चारियों को दीपावली तक बोनस मिल सकता है। हालांकि सूबे के अराजपत्रित कर्मचारियों को बोनस दिये जाने पर राज्य सरकार के खजाने पर 1000 करोड़ रुपये का भार आने का अनुमान लगाया जा रहा है।

 

हालांकि यह कोई पहली बार नहीं होगा कि केन्द्रीय कर्मचारियों को ऐलान के बाद राज्य सरकार के कर्मचारियों के लिये बोनरस का ऐलान होगा। हर बार ऐसा ही होता चला आया है। केन्द्रीय कर्मचारियों के बोनस की घोषणा किये जाने के बाद अब राज्य कर्मचारियों को अपने लिये ऐलान का इंतजार है। हालांकि कोरोना के लिये सरकार के खजाने पर भार है, फिर भी माना जा रहा है कि बोनस का ऐलान हो सकता है। पिछले वर्ष भी यूपी सरकार ने अपने कर्मचारियों को बोनस दिया था। तब बोनस के रूप में दी गई अधिकतम धनराशि सात हजार रुपये तय हुई थी।

 

उसमें से भी 25 प्रतिशत ही नकद दिया गया था जबकि 75 प्रतिशत कर्मचारियों के जीपीएफ में डाला गया था। गत 967 करोड़ रुपये करोड़ रुपये का भार पड़ा था, इस बार एक हजार करोड़ से अधिक का भार आने की संभावना जतायी जा रही है। प्रदेश के आठ लाख अराजपत्रित कर्मचारियों, पांच लाख शिक्षक (सहायता प्राप्त शिक्षण सस्थाएं शामिल), एक लाख शिक्षणेत्तर कर्मचारी व 20 हजार दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को बोनस का लाभ दिया जाता है।

किसे दिया जाता है बोनस

  • राज्य कर्मचारियों
  • राजकीय विभागों के कार्यप्रभारित कर्मचारियों
  • सहायता प्राप्त शिक्षण एवं प्राविधिक शिक्षण संस्थाओं के कर्मचारियों
  • नगर निकायों के कर्मचारियों
  • दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned