दिवाली धमाका : लखनऊ नगर निगम को बॉन्ड इश्यू में 4.5 गुना का बम्पर सब्सक्रिप्शन

बीएसई-बॉन्ड ईबीपी प्लेटफॉर्म पर 450 करोड़ रुपये की बोली के साथ 4.5 गुना ओवरसब्सक्राइब हुआ।

By: Ritesh Singh

Updated: 15 Nov 2020, 05:57 PM IST

लखनऊ ,वर्ष 2018 में लखनऊ में इन्वेस्टर्स समिट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने पहले म्युनिसिपल बांड को फ्लोट करने के कार्य को एक चुनौती के रूप में लिया था। लखनऊ नगर निगम ने निजी प्लेसमेंट के आधार पर म्यूनिसिपल बॉन्ड इश्यू के माध्यम से 8.5% की कूपन दर पर 200 करोड़ रुपये जुटाए हैं। लखनऊ नगर निगम ने 13 नवंबर को अपने पहले 100 करोड़ रुपये बॉन्ड को 100 करोड़ रुपये के ग्रीन शो विकल्प के साथ लांच किया। लखनऊ नगर निगम का बॉन्ड इशू बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के बीएसई-बॉन्ड ईबीपी प्लेटफॉर्म पर 450 करोड़ रुपये की बोली के साथ 4.5 गुना ओवरसब्सक्राइब हुआ।

इशू के खुलने के पहले मिनट के भीतर में बॉन्ड को 200 करोड़ रुपये की बोली प्राप्त हुई। इशू के खुलने के नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन , संजय प्रसाद जी (प्रमुख सचिव, माननीय मुख्यमंत्री यूपी), श्री दीपक कुमार जी (प्रमुख सचिव, नगर विकास विभाग) और नगर आयुक्त अजय द्विवेदी बीएसई कार्यालय में उपस्थित थे।

विगत कुछ वर्षों में, महाराष्ट्र, तेलंगाना, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश और गुजरात के स्थानिय नगरीय निकायों ने म्युनिसिपल बॉन्ड के माध्यम से धन जुटाया था। अब लखनऊ नगर निगम उत्तर भारत का पहला स्थानीय नगरीय निकाय यूएलबी बन गया है, जिसने म्युनिसिपल बॉन्ड जारी किया है, जिसने स्मार्ट सिटी और अमृत मिशन के लॉन्च के बाद दूसरे सबसे कम कूपन दर पर धनराशि जुटाई है और यह कूपन दर अहमदाबाद और सूरत नगर निगमों की तुलना में भी सस्ता है, जिस पर इन नगरीय निकायों ने धन-संग्रह किया था।

सितम्बर 19 में ऋण प्रतिभूतियों के लिए सेबी के नियमों में बदलाव के बाद जारी होने वाला यह पहला म्युनिसिपल बॉन्ड है। बॉन्ड के माध्यम से जुटाई गई धनराशि का उपयोग लखनऊ नगर निगम द्वारा पूंजीगत व्यय के लिए किया जाएगा तथा अमृत मिशन के तहत आवासीय परियोजना और जल आपूर्ति परियोजना में खर्च किया जाएगा।

लखनऊ नगर निगम द्वारा जारी इस बॉन्ड को रेटिंग एजेंसी इंडिया रेटिंग से 'एए' और ब्रिकवर्क रेटिंग एजेंसी द्वारा 'एए (सीई)' रेट किया गया है. बॉन्ड में 8.5% की परिपक्वता दर वाले कूपन दर पर जारी किए गए हैं। इन बांडों का विमोचन सात वार्षिक किश्तों में शुरू होगा चौथे वर्ष के अंत से 10 वें वर्ष के अंत तक। बॉन्ड मजबूत संरचित भुगतान व्यवस्था द्वारा समर्थित हैं। बॉन्ड धारकों को समय पर ब्याज भुगतान दायित्वों को पूरा करने के लिए अच्छी तरह से परिभाषित लागत और संपत्ति कर और शुल्क से पूरे संग्रह के एस्क्रौ संरचित भुगतान तंत्र द्वारा समर्थित हैं।

लखनऊ नगर निगम को यह म्युनिसिपल बॉन्ड जारी करने के लिए भारत सरकार से 26 करोड़ रुपये की का प्रोत्साहन राशि भी प्राप्त होगी। इस बॉन्ड को सफलतापूर्वक जारी करने में सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी श्री केशव वर्मा तथा सुजाता सीकुमार का अनुभवी मार्गदर्शन प्राप्त हुआ। इस इशू के मर्चेंट बैंकर्स एचडीएफसी बैंक और ए. के. कैपिटल सर्विसेज लिमिटेड हैं।

Ritesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned