लॉकडाउन में 26.8 प्रतिशत घट गई सड़क दुर्घटनाएं, 23.2 मृत्यु दर में भी आई कमी

- पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष सड़क दुर्घटनाओं में आई कमी

- मृत्यु दर में भी पिछले वर्ष की तुलना में आई कमी

- लेकिन कुछ जिलों में लॉकडाउन में भी बढ़ गया मृत्यु दर

By: Karishma Lalwani

Published: 03 Nov 2020, 10:06 AM IST

लखनऊ. कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाउन ने लोगों को घर में क्या रखा, सड़कों पर हादसे भी कम हो गए। पिछले साल की तुलना में इस साल सड़क दुर्घटनाएं और उनसे होने वाले हादसों की संख्या में कमी आई है। प्रदेश में जनवरी से सितंबर 2020 तक पिछले साल की तुलना में हुई दुर्घटनाओं में 26.8 प्रतिशत की कमी आई है। जबकि उससे होने वाली मौतों में 23.2 फीसदी की कमी आई है। हालांकि, कुछ शहरों में मृत्यु दर घटने की बजाय बढ़ी है।

13,232 लोगों की गई जान

एडीसीपी यातायात लखनऊ पूर्णेंदु सिंह ने बताया कि यातायात विभाग के आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2020 (जनवरी से सितंबर) तक प्रदेश में कुल 23618 दुर्घटनाओं में 13232 लोगों की जान गई। वहीं 2019 (जनवरी से सितंबर) में कुल 32255 दुर्घटनाओं में 17235 लोगों की मौत हुई थी। यातायात पुलिस की सख्ती और जागरूकता अभियान से राज्य में पहले की अपेक्षा सड़क दुर्घटनाओं व उसमें जान गंवाने वालों की संख्या में कमी हुई है।

बलरामपुर-श्रावस्ती में बढ़ गए हादसे

यूपी के बलरामपुर व श्रावस्ती जिलों में मरने वालों की संख्या घटने की बजाय बढ़ गए हैं। पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष (जनवरी से सितंबर) तक बलरामपुर में सड़क दुर्घटना में मरने वालों की संख्या 9.7 प्रतिशत बढ़ी है। जबकि 2019 में यह संख्या 62 थी। वहीं इस वर्ष 93 दुर्घटनाओं में 68 लोगों की जान गई। श्रावस्ती जिले का भी ऐसा ही हाल है। पिछले साल की तुलना में दुर्घटनाओं में 26.9 प्रतिशत में कमी आई, लेकिन मरने वालों में 7.5 फीसदी की बढ़त हुई। श्रावस्ती जिले में 2019 मे 78 व 2020 में 57 दुर्घटना में कमी आई, लेकिन मरने वालों की संख्या पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष बढ़ गई। 2019 में सड़क हादसों में 40 लोगों की जान गई थी। वहीं 2020 में 43 की मौत हुई थी।

ये भी पढ़ें: दिवाली पर मिलने वाले उपहार का रखें हिसाब, ज्यादा महंगे गिफ्ट पर आ सकता है इनकम टैक्स विभाग का नोटिस

ये भी पढ़ें: संभलकर रहें सर्दियों में कोरोना की दूसरी लहर की आशंका, डेंगू का बढ़ा खतरा

Corona virus COVID-19
Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned