जनता व सरकारी आमदनी के साथ धोखा : अखिलेश यादव

शॉन-ए-अवध बिक्री पर समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने योगी सरकार से नाराजगी जाहिर करते हुए कहाकि यूपी सरकार ने इस प्रोजेक्ट को प्राइवेट कम्पनी को बेच कर जनता के साथ धोखा किया है।

By: Mahendra Pratap

Published: 15 Jul 2020, 06:14 PM IST

लखनऊ. एलडीए ने कनॉट प्लेस की तर्ज पर गोमतीनगर विस्तार में इकाना स्टेडियम के पास शॉन-ए- अवध प्रॉजेक्ट को बनाना शुरू किया था। 12 एकड़ में बनी इस परियोजना की कीमत 565 करोड़ रुपए आंकी गई थी। इसमें करीब 167 करोड़ रुपए एलडीए ने खर्च किया था। करीब दो सौ करोड़ रुपए जमीन की कीमत थी। शान- ए- अवध का काम पूरा करवाने के लिए एलडीए ने इन्वेस्टर्स समिट के दौरान इसे निवेशकों के बीच में उतरा था। शॉन-ए-अवध बिक्री पर समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने योगी सरकार से नाराजगी जाहिर करते हुए कहाकि यूपी सरकार ने इस प्रोजेक्ट को प्राइवेट कम्पनी को बेच कर जनता के साथ धोखा किया है।

समाजवादी पार्टी सुप्रीमो अखिलेश यादव ने बुधवार को अपने ट्विट पर लिखा कि, सपा काल में सरकार की आय बढ़ाने के लिए दिल्ली की आरके एसोसिएट द्वारा विशेष आग्रह पर बनाए गए लखनऊ के भव्य सरकारी परिसर ‘शान-ए-अवध’ को आज की अमीरों की हितैषी उप्र भाजपा सरकार ने निजी हाथों को सस्ते में बेचकर जनता व सरकारी आमदनी के साथ धोखा किया है. निंदनीय! #सपा_का_काम_जनता_के_नाम

लखनऊ का शान- ए- अवध 18 मई 2016 को बिक गया था। इसे 428.17 करोड़ रुपए में डेस्टिनी हॉस्पिटैलिटी सर्विस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने खरीदा था। इसकी ई-नीलामी करवाई थी। इसमें मुंबई और कोलकाता की दो कंपनियों ने बोली लगाई थी।

BJP
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned