अखिलेश पर बरसीं नाराज मायावती, कहा, सपा को हराने के लिए भाजपा का साथ देना होगा तो देंगे

बसपा सुप्रीमो मायावती ने बसपा के सात बागी विधायकों को बसपा से किया निलम्बित

By: Mahendra Pratap

Published: 29 Oct 2020, 12:12 PM IST

लखनऊ. राज्यसभा चुनाव में यूपी की दस सीटों के लिए बुधवार को यूपी की राजनीति में काफी हलचल रही। बसपा के सात बागियों ने बसपा से बगावत कर काफी सुर्खियां बटोरीं। इन सात बागी बसपा विधायकों से बुरी तरह नाराज बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने इन्हें पार्टी से निलम्बित करने के बाद समाजवादी पार्टी पर बुरी तरह फायर हुईं। मायावती ने समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के बारे में कहाकि, अखिलेश का भी एक दिन बुरा हाल होगा। उन्होंने ने कहाकि समाजवादी पार्टी को हराने के लिए अगर हमें भाजपा को वोट देना पड़ेगा तो हम देंगे। भाजपा से मिले होने के प्रचार पर मायावती ने सफाई देते हुए साफ-साफ कहाकि, गलत है।

समाजवादी पार्टी से बसपा का गठबंधन भारी भूल :- बसपा मुखिया ने सपा प्रमुख अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहाकि, समाजवादी पार्टी से बसपा का गठबंधन हमारी भारी भूल है। गठबंधन जल्दबाजी में लिया गया फैसला था। समाजवादी पार्टी दलित विरोधी पार्टी है। सपा ने कभी भी अपना गठबंधन धर्म नहीं निभाया। हमारी पार्टी ने लोकसभा चुनाव में सांप्रदायिक ताकतों से लड़ने के लिए सपा से हाथ मिलाया था लेकिन उनके पारिवारिक अंतरकलह की वजह से बसपा के साथ गठबंधन कर भी वो ज्यादा लाभ नहीं उठा पाए।

हम सपा प्रत्याशियों को बुरी तरह हराएंगे :- मायावती ने स्पष्ट कहा है कि राज्यसभा चुनावों में हम सपा प्रत्याशियों को बुरी तरह हराएंगे। इसके लिए हम अपनी पूरी ताकत झोंक देंगे। इसके लिए अगर हमें भाजपा या किसी अन्य पार्टी के प्रत्याशी को अपना वोट देना पड़े तो हम वो भी करेंगे।

मुकदमा वापस लेना एक बड़ी गलती :- नाराज मायावती ने कहाकि, मैं इस बात का खुलासा करना चाहती हूं कि जब हमने यूपी में लोकसभा चुनाव के लिए सपा के साथ चुनाव लड़ने का फैसला किया तो हमने इसके लिए बहुत मेहनत की, लेकिन जब से यह गठबंधन हुआ था तब से सपा प्रमुख की मंशा दिखने लगी थी। वो एसपी मिश्रा से लगातार यह कहते रहे कि चूंकि बसपा-सपा ने हाथ मिला लिया है, इसलिए अब मायावती को जून 1995 वाला मुकदमा वापस ले लेना चाहिए। लोकसभा चुनाव परिणामों के बाद समाजवादी पार्टी के बदले व्यवहार को देखा तो महसूस किया कि हमने उनके मुकदमा वापस लेकर एक बड़ी गलती की है।

सतीश चंद्र मिश्रा का फोन ही नहीं उठाया :- मायावती ने कहाकि, मेरी पार्टी ने फैसला किया था कि अगर अखिलेश यादव राज्यसभा चुनाव में अपनी पत्नी डिंपल यादव को मौका दे रहे हैं, तो बसपा उनका समर्थन करने के लिए तैयार है। सतीश चंद्र मिश्रा ने सपा नेता से संपर्क करने की कोशिश की, पर उन्होंने अपना फोन नहीं उठाया और राज्य के सभी ब्राह्मण समुदाय के लोगों का अपमान है। बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने कहा कि सभी जानते हैं कि सपा शासन में माफिया, गुंडे राज्यों पर कैसे राज करते हैं। वे फिर से लोगों को बे-वकूफ बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

BJP
Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned