आईये जानते हैं 'लू' लगने से शरीर के किस अंग पर पड़ता हैं गलत प्रभाव

लू से बचने के लिए करें यह उपाय

By: Hariom Dwivedi

Published: 29 Apr 2019, 10:00 AM IST

Ritesh Singh
लखनऊ ,अप्रैल के महीने में मई जून जैसी गर्मी के थपेड़े शुरू हो गए हैं। साथ ही तेज हवा जो लू का काम करती हैं गर्मी की यह हवा बीमारियों को दावत हैं। गर्मी के मौसम में सबसे ज्यादा कई बीमारी है जो बहुत परेशान करती हैं जैसे की सांस लेने में दिक्कत,अपच,हैजा,खुजली,दाद ,खाज,थकान का हमेशा से शरीर में रहना आदि।

डॉ शीला श्रीवास्तव ने बतायाकि गर्मी के मौसम में गर्म हवा और बढ़े हुए तापमान से लू लगने का खतरा बढ़ जाता है। अगर अचानक शरीर का तापमान बढ़ जाय या फिर सिर में तेज दर्द होना अचानक से शुरू हो जाय तो सावधान हो जाना चाहिए। यह दोनों लू लगने के लक्षण हैं।

लू लगने के किडनी, दिमाग और दिल पर बुरा प्रभाव पड़ता है जिससे इन अंगों की कार्यक्षमता प्रभावित होती है। लू लगने के बाद नाड़ी और सांस की गति तेज हो जाती है।कई बार देखा गया है कि त्वचा पर लाल दाने भी हो जाते हैं।

कई लोगों को लू लगने पर बार-बार पेशाब की भी शिकायत हो जाती है और शरीर में जकड़न हो जाती है। चिलचिलाती गर्मी में लू से बचने के लिए घरेलू उपाय काफी कारगर साबित होते हैं।

लू से बचने के कुछ बेहद कारगर घरेलू उपाय

धूप में निकलते वक्त छाते का इस्तेमाल करना चाहिए. सिर ढक कर धूप में निकलने से भी लू से बचा जा सकता है। घर से पानी या कोई ठंडा शरबत पीकर बाहर निकलें. जैसे आम पना, शिकंजी, खस का शर्बत ज्यादा फायदेमंद है। तेज धूप से आते ही और ज्यादा पसीना आने पर फौरन ठंडा पानी नहीं पीना चाहिए। गर्मी के दिनों में बार-बार पानी पीते रहना चाहिए ताकि शरीर में पानी की कमी न हो। पानी में नींबू और नमक मिलाकर दिन में दो-तीन बार पीते रहने से लू लगने का खतरा कम रहता है।

Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned