यूपी के पूर्व मंत्री भगवती सिंह का निधन, केजीएमयू ले जाएगा उनकी देह, मुलायम-अखिलेश दुखी

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के करीबी थे भगवती सिंह
भगवती सिंह लिया था देह दान का संकल्प, केजीएमयू ले जाएगा पार्थिव देह
मुलायम-अख‍िलेश सहित समाजवादी पार्टी के कई नेता दुखी

By: Mahendra Pratap

Published: 04 Apr 2021, 12:28 PM IST

लखनऊ. लखनऊ. सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के करीबी व समाजवादी चिंतक व यूपी के पूर्व मंत्री भगवती सिंह (89 वर्ष) का रविवार सुबह निधन हो गया। भगवती सिंह के निधन से शोक की लहर फैल गई। समाजवादी पार्टी के सभी नेता भगवती सिंह (Bhagwati Singh Passed Away) के निधन की खबर से दुखी है। समाजवादी पार्टी सुप्रीमो अख‍िलेश यादव (Akhilesh sad) ने शोक व्यक्त किया है। भगवती सिंह ने देह दान (Body donation) का संकल्प लिया था। जिस वजह से उनका पार्थिव देह केजीएमयू (KGMU) को सौंपा जाएगा। रविवार दोपहर बाद केजीएमयू की टीम उनके रिवर बैंक कॉलोनी आवास पर पहुंचकर देहदान की प्रक्रिया पूरी करेगी।

यूपी के इन चार छोटे जिलों में मिलेंगी ढेर सारी नौकरियां और रोजगार

जीवन परिचय :- बताया जा रहा है कि पूर्व मंत्री भगवती सिंह पिछले कई दिनों से बख्शी का तालाब स्थित चंद्र भानु गुप्त कृषि महाविद्यालय में रह रहे थे। वहीं रव‍िवार सुबह उनका निधन हुआ। भगवती सिंह के निधन से पूरे क्षेत्र में शोक की लहर फैल गई। भगवती सिंह का जन्म बीकेटी विकास खंड के अर्जुनपुर गांव में हुआ था। वह खांटी समाजवादी विचार धारा को मनाने वाले थे। उन्होंने मजदूरों और किसानों को हक दिलाने की लिए कई आंदोलन किए। भगवती सिंह ने डॉ राम मनोहर लोहिया और राजनारायण जैसी शख्सियतों के साथ बैठकर राजनीति का ककहरा सीखा। वर्ष 1977 में पहली बार महोना से विधायक बने।

राजनीतिक कैरियर :- 1985 में विधायक, 1990 में कैबिनेट में खेलकूद युवा कल्याण मंत्री, 1990 में सदस्य विधान परिषद, 1993 में वन मंत्री, 1998 में पुन सदस्य विधान परिषद, 2003 में बाह्य सहायतित परियोजना मंत्री, तथा नेता सदन बने, वर्ष 2004 में राज्यसभा सदस्य बनाये गए।

अख‍िलेश यादव दुखी :- भगवती सिंह के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए समाजवादी पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष अख‍िलेश यादव ने अपने ट्वीटर हैंडल पर ल‍िखा, शोकाकुल परिजनों के प्रति संवेदना! ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति एवं शोक संतप्त परिजनों को इस दुख की घड़ी में संबल प्रदान करे। भावभीनी श्रद्धांजलि!

Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned