भाजपा के राज्यसभा प्रत्याशी अरुण सिंह क्यों हैं चर्चा में जानिए

भाजपा ने अरुण सिंह को उत्तर प्रदेश से राज्यसभा उम्मीदवार घोषित किया। नाम की घोषणा होते ही उत्तर प्रदेश में अरुण सिंह अचानक सुर्खियों में छा गए।

By: Mahendra Pratap

Published: 03 Dec 2019, 02:35 PM IST

लखनऊ . भाजपा ने अरुण सिंह को उत्तर प्रदेश से राज्यसभा उम्मीदवार घोषित किया। नाम की घोषणा होते ही उत्तर प्रदेश में अरुण सिंह अचानक सुर्खियों में छा गए। हर व्यक्ति के लिए यह चर्चा का विषय था आखिर अरुण सिंह हैं कौन। सोमवार को अरुण सिंह ने अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। और सौ फीसदी उनका निर्विरोध चुना जाना तय है।

राज्यसभा की यह सीट आजम खान की पत्नी तंजीन फातिमा के इस्तीफ देने की वजह से रिक्त हो गई थी। तंजीन फातिमा अभी हुए उपचुनाव में विधायक चुनी गई हैं।

अरुण सिंह प्रदेश के मिर्जापुर जिले के वैधा गांव के रहने वाले हैं। उनका जन्म 1965 में हुआ था। उनके पिता विजय नारायण प्राइमरी शिक्षक थे। चार भाईयों में अरुण सिंह सबसे छोटे हैं। अरुण सिंह ने 1984 में इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से स्नातक करने के बाद दिल्ली में 1988 में सीए की पढ़ाई पूरी की। स्टेट बैक और यूनियन बैंक में से 7 वर्षों तक नौकरी करते हुए अरुण सिंह यूनाइटेड नेशन और वर्ल्ड बैंक मैं कंसल्टेंट के पद पर भी रह चुके हैं।

अरुण सिंह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक रहे हैं। आरएसएस में संपर्क प्रमुख की जिम्मेदारी निभाई है। भारतीय जनता युवा मोर्चा यूथ विंग में अपने कैरियर की शुरुआत की। अरुण सिंह भाजयुमो में 1999 से 2004 के बीच उपाध्यक्ष रहे। नेशनल कन्वेंटनर, इन्वेस्टर शैल में भी उन्होंने जिम्मेदारी निभाई। वर्तमान में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव के पद पर हैं। साथ ही उड़ीसा के स्टेट प्रभारी हैं। 2014 में मोदी के चुनाव प्रचार में भी अरुण सिंह ने बड़ी जिम्मेदारी निभाई थी। अरुण सिंह राजनाथ सिंह के रिश्तेदार हैं।

अरुण सिंह पहली बार संसद के उच्च सदन में जाएंगे हालांकि उनका कार्यकाल 25 नवंबर 2020 तक ही रहेगा। राज्यसभा की खाली सीट के लिए उप चुनाव का मतदान 12 दिसंबर को होगा। सुबह नौ से शाम चार बजे तक मतदान होगा, जबकि पांच बजे से मतगणना होगी। इसका परिणाम भी 12 दिसंबर को घोषित किया जाएगा। इस खाली सीट पर निर्वाचन सम्पन्न कराने की अंतिम तारीख 16 दिसंबर है। अरुण सिंह के चुनने के साथ ही राज्यसभा में उत्तर प्रदेश से भाजपा का प्रतिनिधित्व करने वाले सांसदों की संख्या 15 हो जाएगी।

BJP
Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned