Lucknow Book Fair-21:लखनऊ बुक फेयर-21 की थीम आत्मनिर्भर भारत

सुबह से शाम तक चलेंगी साहित्यिक-सांस्कृतिक गतिविधियां

 

By: Ritesh Singh

Published: 02 Mar 2021, 09:59 PM IST

लखनऊ, चारबाग स्थित बाल संग्रहालय लान में पांच से 14 मार्च तक लखनऊ पुस्तक मेला आयोजित किया जा रहा है। इस मेले की थीम आत्मनिर्भर भारत होगी। मेले का उद्घघाटन उप मुख्यमंत्री डा.दिनेश शर्मा करेंगे। निःशुल्क प्रवेश वाले इस मेले में सभी तरह की किताबों पर न्यूनतम 10 प्रतिशत छूट मिलेगी। मेले के बारे में यहां आयोजित प्रेसवार्ता में संयोजक मनोज सिंह चंदेल ने बताया कि 2003 से पुस्तक मेले इस नवाबी शहर की नियमित गतिविधियों का अंग हो चुके हैं। कोविड महामारी का प्रकोप कम होने के बाद लोगों को बेसब्री से पुस्तक मेले की प्रतीक्षा में है। कोविड काल में पिछले वर्ष पुस्तक मेला नहीं हो पाया था। एक नई किंतु सुगम जगह चारबाग रेलवे स्टेशन के सामने सबकी पहुंच और आने-जाने के साधनों से सुगम स्थल पर हो रहे इस मेले के सांस्कृतिक मंच पर सुबह से रात तक गतिविधियों का दौर नित्य जारी रहेगा। पुस्तक मेले का विशेष आकर्षण है ।

ऑप्टीकुम्भ-21 होगा। उपमुख्यमंत्री डा.दिनेश शर्मा ने शुक्रवार पांच मार्च को शाम पांच बजे पुस्तक मेले का उद्घाटन करने की सहमति दी है। मेले की थीम आत्मनिर्भर भारत रखी गई है। निदेशक आकर्ष चंदेल ने बताया कि केंद्र और राज्य सरकारों के द्वारा कार्यक्रम के आयोजन के मापदंडों में ढील के बाद ही मेले का खाका तैयार किया गया है। हमेशा की तरह सुबह 11 बजे से रात नौ बजे तक चलने वाले इस लखनऊ पुस्तक मेले में इस बार भी कोई प्रवेश शुल्क नहीं होग. किन्तु कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए बिना मास्क के पुस्तक प्रेमियों को प्रवेश नहीं दिया जायेगा।

उन्होंने बताया कि महामारी के इस दौर में पिछले एक वर्ष में पुस्तक कारोबार को 26 करोड़ रुपये से ज़्यादा का नुकसान हुआ है। इस नुकसान में 80 फीसदी हिस्सा पाठ्यक्रम की शैक्षिक पुस्तकों का है। उन्होंने आज आभासी दुनिया के लती होने के नुकसानों से अलग पुस्तकों के कभी न खत्म होने वाले फायदों को गिनाया और कहा कि पुस्तकों को सबसे अच्छे दोस्त के रूप में जाना जाता है और युगों से समाज के विकास में किताबें अहम भूमिका निभाती आई हैं।

मनोज सिंह चंदेल ने आगे बताया कि मेले में नेशनल बुक ट्रस्ट, राजकमल, लोकभारती, वाणी प्रकाशन, केंद्रीय हिंदी निदेशालय, प्रकाशन विभाग, उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान, सिंधी भाषा राष्ट्रीय परिषद, उर्दू भाषा राष्ट्रीय परिषद, चिल्ड्रन बुक ट्रस्ट, श्रीरामकृष्ण मिशन, तर्कसंगत विचार कैफे, ओसवाल पब्लिशर्स, सुल्तान चंद, प्रकाशन संस्थान के साथ कई अन्य प्रकाशक और वितरक पुस्तक मेले में भाग ले रहे हैं। स्थानीय लेखकों की अपनी पुस्तकों के प्रदर्शन और बिक्री के लिए अलग से मुफ्त स्टाल लगाया जा रहा है।

सात से 13 मार्च तक चलने वाले विश्व ग्लूकोमा सप्ताह के अंतर्गत मेले में फ्यूचरिस्टिक विजन सेंटर के सहयोग से आंखों की जांच का फ्री कैम्प भी लगाया जाएगी। ज्योति किरन रतन ने बताया कि महिला दिवस पर महिलाओं के विशेष कार्यक्रम बुक फेयर में होंगे। इसके अलावा इंटर-कॉलेज प्रतियोगिता, ओपन माइक सत्र, प्रदर्शनी टॉक शो इत्यादि भी आयोजित किये जाएंगे।

Ritesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned