‘आपरेशन दुराचारी’ की तैयारियां तेज, चौराहों पर शोहदों के पोस्टर लगाने को ढूंढ़े जा रहे 'हॉटस्पॉट'

- एंटी रोमियो स्वॉड के बाद महिला अपराध रोकने के लिए सरकार की नई रणनीति
- महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अपराध चिंता का विषय : राज्यपाल
- यूपी में बहन-बेटियां सुरक्षित नहीं, योगी सरकार गंभीरता से ध्यान दे : मायावती

By: Mahendra Pratap

Updated: 27 Sep 2020, 06:40 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में महिलाओं, लड़कियों, बच्चियों से छेड़खानी, दुर्व्यवहार, अपराध, यौन अपराध की घटनाएं रोजाना हो रही हैं। यूपी सरकार भी चिंतित है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस समस्या पर काबू पाने के लिए 'आपरेशन दुराचारी' शुरू किया है। इसके तहत महिलाओं से किसी भी तरह की बदतमीज करने पर शोहदों के पोस्टर शहर की दीवारों पर लगाए जाएंगे। 'आपरेशन दुराचारी' के तहत यूपी के जिलों और शहरों के उन 'हॉटस्पॉट' को चुना जा रहा है, जहां पर इन शोहदों के पोस्टर चस्पा किए जाएंगे। सूबे की विपक्षी पार्टियां भी इस मुद्दे को लेकर सीरियस हैं। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने भी महिलाओं और बालिकाओं के प्रति बढ़ रहे अपराध पर चिंता जताते हुए कहाकि यह सभ्य समाज के लिए उचित नहीं है। बसपा सुप्रीमो मायावती ने सीएम योगी का ध्यानाकर्षण करते हुए कहाकि, यूपी में बहन-बेटियां सुरक्षित नहीं, योगी सरकार गंभीरता से ध्यान दे।

पहला ‘मास्टरस्ट्रोक’ :- यौन अपराधों पर सीएम योगी आदित्यनाथ का ये पहला ‘मास्टरस्ट्रोक’ नहीं है। यूपी की गद्दी संभालते ही सीएम योगी ने एंटी रोमियो स्क्वॉड का गठन किया था। एंटी रोमियो स्क्वॉड अपने उद्देश्य से भटक गया और विवादों में आ गया। इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने यूपी पुलिस को निर्देश दिया कि स्क्वॉड सरकारी दिशानिर्देशों का पालन करें। इसके साढ़े तीन साल बाद बीते बृहस्पतिवार को अब आपरेशन दुराचारी नाम से महिलाओं की रक्षा को एक नया आदेश आया है। और शोहदों को सजा देने की तैयारयिां शुरू हो गई।

विस्तृत कार्ययोजना पर मंथन :- पुलिस महानिदेशक हितेश चंद्र अवस्थी के मुताबिक गृह विभाग के साथ बैठक के बाद इसके दिशा-निर्देश जारी किए जाएंगे। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी भी कह चुके हैं कि महिलाओं के प्रति अपराध करने वालों के संबंध में विस्तृत कार्ययोजना बनाई जा रही है। इसका प्रभावी क्रियान्वयन कराया जाएगा।

उत्तर प्रदेश देश मे प्रथम :- अगर हम एनसीआरबी 2018 के आंकड़ों की बात करते है तो पता चलता है कि, देश में महिलाओं के खिलाफ कुल 3,78,227 लाख मामले दर्ज हुए थे। जिनमें से सिर्फ उत्तर प्रदेश में 59 हज़ार 445 मामले दर्ज हुए। वर्ष 2017 में कुल 56 हज़ार 011 मामले दर्ज हुए थे। वर्ष 2017 और 2018 में अपराधों के मामले में लगातार उत्तर प्रदेश देश मे प्रथम स्थान पर रहा था।

‘आपरेशन दुराचारी’ की तैयारियां तेज, चौराहों पर शोहदों के पोस्टर लगाने को ढूंढ़े जा रहे 'हॉटस्पॉट'

महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अपराध चिंता का विषय : राज्यपाल

प्रदेश में बढ़ रहे महिला अपराध पर चिंता जताते हुए उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि महिलाओं और बालिकाओं के प्रति बढ़ रहे अपराध चिंता का विषय हैं। यह सभ्य समाज के लिए उचित नहीं है। कन्या भ्रूण हत्या और दहेज हत्या जैसे मामले समाज के लिए चिंतनीय विषय हैं। हम सभी को महिलाओं के सम्मान और उनकी सुरक्षा के लिए उचित कदम उठना होगा। महिला सशक्तीकरण देश की प्रगति के लिए आवश्यक है। महिलाएं शक्तिशाली बनती हैं तो वे अपने जीवन से जुड़े हर फैसले स्वयं ले सकती हैं। महिलाएं आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनें और देश के विकास में अपना योगदान दें। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि महिलाओं और बालिकाओं को एहसास दिलाना होगा कि वे कितनी साहसी हैं। वे हर क्षेत्र में सफल हो सकती हैं। भारतीय संस्कृति में महिलाओं को सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है। भारतीय समाज के विकास में अनेक विदुषी नारियों का अविस्मरणीय योगदान रहा है। भारतीय संविधान में भी महिलाओं को समानता का अधिकार दिया गया है।

‘आपरेशन दुराचारी’ की तैयारियां तेज, चौराहों पर शोहदों के पोस्टर लगाने को ढूंढ़े जा रहे 'हॉटस्पॉट'

यूपी में बहन-बेटियां सुरक्षित नहीं : मायावती

लखनऊ. हाथरस में दलित लड़की से गैंगरेप के बाद लड़की की जीभ काट दी गई। इस मामले पर बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने सरकार का ध्यान दिलाते हुए कहाकि दलित बेटियां ही नहीं अन्य समाज की बहू बेटियां अब प्रदेश के भाजपा शासन में सुरक्षित नहीं हैं। भाजपा की योगी सरकार को गंभीरता के साथ इस पर ध्यान देना चाहिए। यूपी में दलितों की बेटियों संग हो रही रेप की घटनाओं पर अपनी चिंता जताते हुए बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने रविवार को अपने ट्विट के जरिए सीएम योगी को सचेत किया कि, यूपी के जिला हाथरस में एक दलित लड़की को पहले बुरी तरह से पीटा गया, फिर उसके साथ गैंगरेप किया गया, जो अति-शर्मनाक व अति-निन्दनीय जबकि अन्य समाज की बहन-बेटियां भी अब यहाँ प्रदेश में सुरक्षित नहीं हैं। सरकार इस ओर जरूर ध्यान दे, बीएसपी की यह मांग।

Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned