कोरोना बना यूपी की अर्थव्यवस्था के लिए बड़ा अवसर, प्रदेश में कारोबार करने के लिए अमेरिकी कम्पनियों को योगी सरकार देगी विशेष पैकेज

यूपी सरकार अमेरिकी मूल की उन कंपनियों को जो चीन से बाहर आकर उतर प्रदेश में इकाइयां लगाना चाहती हैं, उन्हें विशेष पैकेज देने के लिए तैयार है।

By: Mahendra Pratap

Published: 23 May 2020, 12:18 PM IST

लखनऊ. कोरोना वायरस की वजह से बहुत सारी कम्पनियां अब अपना कारोबार समेट का भारत आ रही हैं। यह देशी-विदेशी कम्पनियां अपने कारोबार को उत्तर प्रदेश में स्थापित करें इसके लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की आर्थिक टास्क फोर्स पूरा जोर लगा दे रही है। कई लुभावने प्रस्ताव बनाए जा रहे हैं, जिससे विदेशी कम्पनियां यूपी में अपना कारोबार शुरू करें। जर्मनी की मशहूर फुटवियर कंपनी वॉन वेल्क्स चीन से अपना कारोबार समेट कर उत्तर प्रदेश के आगरा में शिफ्ट होने जा रही है। यूपी सरकार अमेरिकी मूल की उन कंपनियों को जो चीन से बाहर आकर उतर प्रदेश में इकाइयां लगाना चाहती हैं, उन्हें विशेष पैकेज देने के लिए तैयार है।

कोरोना वायरस की वजह से लगे लॉकडाउन को साठ दिन पूरे हो गए हैं। सरकार ने करीब 16 लाख प्रवासी श्रमिकों की घर वापसी कराई है। और अभी भी यह प्रक्रिया जारी है। इन कुशल व अकुशल करीगारों को काम उपलब्ध कराना अब सरकार की चुनौती बन गई है। साथ इस दौरान यूपी सरकार का खजाना भी लगातार खाली होता जा रहा है। राजस्व मिले और काम पटरी पर आ जाए इसको लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ, उनकी टीम 11 व एमएसएमई व निर्यात प्रोत्साहन मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह, औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना सभी का प्रयास है कि चीन छोड़कर ये विदेशी कम्पनियां अपना इनवेस्टमेंट यूपी में करें। इसके लिए जापान, जर्मन, यूरोपियन और अमेरिकन कम्पनियों से वीडियों कांफ्रेंसिंग के जरिए अपने लुभावने प्रस्ताव पेश किए।

इंडो-अमेरिकन चैंबर ऑफ कॉमर्स, नार्थ इंडिया काउंसिल की ओर से आयोजित 'कोविड-19 के बाद अमेरिकी कंपनियों के लिए उतर प्रदेश हॉट डेस्टिनेशन' पर आधारित वेबिनार में एमएसएमई व निर्यात प्रोत्साहन मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहाकि अमेरिकी मूल की जो कंपनियां चीन से बाहर आकर उतर प्रदेश में इकाइयां लगाना चाहती हैं, उन्हें यूपी सरकार विशेष पैकेज देने के लिए तैयार है।

उत्तर प्रदेश में निवेश और निवेशक दोनों सुरक्षित :- सिंह ने कहा कि हम इस दिशा में भी ठोस प्रयास कर रहे हैं कि रुकी हुई अर्थव्यवस्था को लॉकडाउन के बाद कैसे गति दी जाए। संभावित विकल्पों में से एक चीन से भारत की ओर आने वाली विनिर्माण कंपनियों को प्रोत्साहित करने और अतिरिक्त सुविधा के लिए चर्चा की गई। ताकि, भारत में अमेरिकी मूल की कंपनियों को उतर प्रदेश में कैसे सर्वाधिक निवेश के लिए लाया जा सके। पूर्व सरकार की प्रवृति और राजनीतिक परिदृश्य को देखते हुए ही निवेश करता है। उतर प्रदेश में निवेश और निवेशक दोनों ही सुरक्षित हैं।

85 फीसदी इकाइयों में काम शुरू :- औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने दावा किया है कि प्रदेश में औद्योगिक गतिविधियां पटरी पर लौटने लगी हैं। करीब 85 फीसदी औद्योगिक इकाइयों में काम शुरू हो गया है। बाकी में उत्पादन जल्द से जल्द शुरू हो जाने की संभावना है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश में निवेश को आकर्षित करने के प्रयासों को अपेक्षा से अधिक समर्थन मिलने की उम्मीद है। लॉकडाउन से प्रभावित उद्योगों को आगे बढ़ाने के लिए तेजी से काम किया जा रहा है। विदेशी निवेश को आकर्षित करने के लिए किए जा रहे प्रयास के कारण अपेक्षा से अधिक निवेश आने की संभावना है।

Corona virus coronavirus
Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned