खुशखबरी : 14 कोरोना वायरस पाजिटिव मरीज हुए स्वस्थ, उत्तर प्रदेश में अभी कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं

यूपी में कुल 49 कोरोना वायरस पाजिटिव, 'कम्युनिटी ट्रांसमिशन' से इनकार
प्रदेश के 12 जिलों में ही कोरोना पॉजिटिव केस
हाइड्रॉक्सिल क्लोरोफीन दवा बिना पर्चे के नहीं बिकेगी
प्रदेश में क्वारंटीन के लिए करीब 6000 बेड उपलब्ध
कोविड-19 की टेस्टिंग के लिए आठ लैब, झांसी, प्रयागराज, लखनऊ में लैब खोलने तैयारी

By: Mahendra Pratap

Updated: 27 Mar 2020, 08:49 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस पाजिटिव की संख्या जिस तेजी से बढ़ रही है उसी तेजी के साथ मरीज भी ठीक हो रहे हैं। कोरोना वायरस पाजिटिव के कुल 49 मरीजों में से अब तक 14 लोग पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं। इनमें आगरा के सात, नोएडा के चार, गाजियाबाद के दो और लखनऊ का एक व्यक्ति शामिल है। बाकी 35 का भिन्न—भिन्न अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है। इस वक्त सभी की हालत स्थिर है। प्रदेश में 75 जिलों में से अभी तक 12 जिलों में ही कोरोना पॉजिटिव केस पाए गए हैं। इसके साथ ही 'कम्युनिटी ट्रांसमिशन' पर सरकार ने बेहद जोरदार तरीके से इनकार किया।

स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने शुक्रवार को बताया कि प्रदेश में कोविड-19 के 'कम्युनिटी ट्रांसमिशन' होने की बात से इनकार करते हुए कहा कि यह संक्रमण उन्हीं लोगों को हुआ है जो बाहर से आए हैं या उनके करीबी सम्पर्क में आए थे। कम्युनिटी ट्रांसमिशन का कोई मामला अब तक सामने नहीं आया है। सावधानी पर प्रसाद ने कहाकि कोविड-19 संक्रमण से उबरकर अस्पताल से छुट्टी पा चुके लोगों को सावधानी बरतनी होगी, साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग और हाथ धोने का ख्याल रखना होगा।

49 कोरोना वायरस पाजिटिव :- प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने कहाकि उत्तर प्रदेश में इस वक्त 49 कोरोना वायरस पाजिटिव हैं। शुक्रवार को कोविड-19 के छह नए मामले सामने आए। पिछले 24 घंटे में नोएडा में कोविड-19 संक्रमण के चार और गाजियाबाद में दो नए मामले सामने आए हैं। प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि इनमें नोएडा में 18, आगरा में नौ, लखनऊ में आठ, गाजियाबाद में पांच, पीलीभीत में दो, बागपत, लखीमपुर खीरी, मुरादाबाद, वाराणसी, कानपुर, जौनपुर और शामली का एक-एक मरीज शामिल है।

झांसी, प्रयागराज, लखनऊ में नई लैब खोलने की तैयारी :- प्रसाद ने बताया कि कोविड-19 की टेस्टिंग के लिए इस समय प्रदेश में आठ प्रयोगशालाएं काम कर रही हैं। झांसी, प्रयागराज और लखनऊ में भी लैब खोलने तैयारी शुरू हो गई है। प्रदेश में इस वक्त 4255 आइसोलेशन बेड तैयार हैं। सरकारी क्षेत्र में हमारा प्रयास है कि हम 15 हजार बेड उपलब्ध कराएं। इसके अलावा निजी क्षेत्र से भी बातचीत की जा रही है।

हाइड्रॉक्सिल क्लोरोफीन दवा बिना पर्चे के नहीं बिकेगी :- प्रसाद ने बताया कि क्वारंटीन के लिए करीब 6000 बेड उपलब्ध हैं। प्रदेश के 75 जिलों में से अभी तक 12 जिलों में ही कोरोना पॉजिटिव केस पाए गए हैं। अस्पतालों में पर्याप्त मात्रा में दवाएं और उपकरण उपलब्ध कराये जा रहे हैं। अस्पतालों में कोरोना संक्रमितों का इलाज कर रहे चिकित्साकर्मियों के लिए आईसीएमआर की सिफारिश पर हाइड्रॉक्सिल क्लोरोफीन दवा मंगा ली गई है। प्रसाद ने ताकीद की कि यह दवा आम जनता के लिए नहीं है। भारत सरकार ने इसे शेड्यूल एक्स में ला दिया है और कोई दुकानदार बिना पर्चे के इसे नहीं बेच सकता।

coronavirus
Show More
Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned