पल्स पोलियो की तर्ज पर जुलाई से डोर-टू-डोर कोरोना की स्क्रीनिंग

कोरोना वायरस के खात्मे के लिए यूपी सरकार और स्वास्थ्य विभाग ने कमर कस ली है। पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर जुलाई माह से पूरे प्रदेश में डोर-टु-डोर मेडिकल स्क्रीनिंग की जाएगी।

By: Mahendra Pratap

Published: 29 Jun 2020, 05:08 PM IST

लखनऊ. कोरोना वायरस के खात्मे के लिए यूपी सरकार और स्वास्थ्य विभाग ने कमर कस ली है। पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर जुलाई माह से पूरे प्रदेश में डोर-टु-डोर मेडिकल स्क्रीनिंग की जाएगी। घरों की मार्किंग की जाएगी। इसकी शुरुआत मेरठ मंडल से होगी। इस अभियान की सफलता के बाद बाकी बचे 17 जिलों में भी स्क्रीनिंग का अभियान चलाया जाएगा। पूरे प्रदेश की 24 करोड़ जनसंख्या में अब तक 1.10 करोड़ परिवारों के 5.60 करोड़ लोगों का सर्वेक्षण किया जा चुका है।

यूपी के मुख्य सचिव आरके तिवारी ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग सौ फीसद घरों की स्क्रीनिंग का कार्य निर्धारित समय में पूर्ण कराने के लिए आवश्यक रणनीति समय से तैयार कर लें। जिलों में रैपिड रेस्पॉन्स टीम, एम्बुलेंस को तैयार रखा जाए, जिससे सूचना मिलते ही जरूरी कदम उठाए जा सकें। मेडिकल स्क्रीनिंग के समय पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर घरों की मार्किंग भी की जाए। मेडिकल स्क्रीनिंग में किसी व्यक्ति में कोरोना का लक्षण पाए जाने पर उसका पल्स ऑक्सीमीटर और रैपिड एंटीजन टेस्ट कराया जाये। संक्रमित होने की दशा में उसे तत्काल कोविड अस्पताल में भर्ती कराया जाए।

आम नागरिकों की अहम भूमिका :- यूपी में अब तक 1.10 करोड़ परिवारों के 5.60 करोड़ लोगों का सर्वेक्षण किया जा चुका है। इसके लिए 1.50 लाख सर्विलांस टीमें लगाई गई हैं। प्रदेश में रिकवरी रेट बढ़कर 66.86% पहुंच चुका है। मुख्य सचिव ने कहाकि कोरोना का प्रसार रोकने में आम नागरिकों की महत्वपूर्ण भूमिका है। इसलिए उन्हें विभिन्न प्रचार माध्यमों से जागरूक करने के लगातार प्रयास किए जाएं। मैजिस्ट्रेट और पुलिस की गाड़ियों से व्यस्त चौराहों एवं बाजारों में पैट्रोलिंग कर सोशल डिस्टेसिंग और मास्क का उपयोग सुनिश्चित कराएं।

रोजगार के अवसर पैदा किए जाए :- आरके तिवारी ने कहा कि सरकारी कार्यालयों, उद्योगों और ऐसे समस्त स्थानों पर जहां पर बड़ी संख्या में लोग आते हैं, वहां कोविड हेल्प डेस्क स्थापित करने के कार्य में तेजी लायी जाए। गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत चिन्हित 31 जिलों के साथ-साथ बाकी जिलों में भी रोजगार के अवसर पैदा करने के प्रयास किए जाएं।

coronavirus
Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned