राम मंदिर पर असदुद्दीन ओवैसी और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बातें सुन कांप जाएंगे

भूमि पूजन से पहले एआईएमआईएम के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर लिखा कि बाबरी मस्जिद थी और रहेगी। इंशाअल्लाह।

By: Mahendra Pratap

Published: 05 Aug 2020, 01:55 PM IST

लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में पांच शताब्दियों का संकल्प पूरा किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राम मंदिर भूमि पूजन और शिलान्यास का कार्यक्रम को पूरा कर राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ कार दिया है। पर अभी मंदिर के विरोध की सुगबुगाहट हो रही है। भूमि पूजन से पहले एआईएमआईएम के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर लिखा कि बाबरी मस्जिद थी और रहेगी। इंशाअल्लाह। इस पर बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी ने पलटवार करते हुए कहा कि जब कोर्ट ने फैसला सुना दिया तो झगड़ा कहां है। अब कोई झगड़ा नहीं बचा है। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने भी आज अपने मन की बात खुलकर कहा दी, उन्होंने तुर्की के हागिया सोफिया का उदाहरण देते हुए कहा कि बाबरी मस्जिद हमेशा एक मस्जिद रहेगी।

कोई स्थिति हमेशा के लिए नहीं रहती :- मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने अपने ट्विट पर लिखा कि अन्यायपूर्ण, दमनकारी, शर्मनाक और बहुसंख्यक तुष्टिकरण के आधार पर भूमि का पुनर्निर्धारण निर्णय इसे बदल नहीं सकता है। दुखी होने की जरूरत नहीं है। कोई स्थिति हमेशा के लिए नहीं रहती है।

अब कोई झगड़ा बचा नहीं :- इकबाल अंसारी

बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने 9 नवंबर को फैसला दे दिया था। अब कोई झगड़ा बचा नहीं है और मैं ओवैसी बात ही नहीं करता। आपस में लड़ने से कभी चीन आंख दिखाता है तो कभी नेपाल तो कभी पाकिस्तान घूरता है। भगवान राम का सम्मान हैं। हमारे मजहब में सभी देवी-देवताओं का सम्मान है। चुनाव के दौरान लोग हिंदू-मुस्लिम बताते हैं। धर्म और जाति की राजनीति मुझे पसंद नहीं है। मुझे राम मंदिर भूमि पूजन में बुलावा मिला है, इसलिए जा रहा हूं। नायाब किताब रामचरितमानस की प्रति और गमछा भेंट करेंगे।

Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned