यूपी को मिला बड़ा सम्मान राम मंदिर झांकी आई नम्बर वन, एसीसी सूचना नवनीत सहगल, सूचना निदेशक शिशिर ने ग्रहण किया पुरस्कार

केंद्रीय युवा एवं खेल मंत्री किरण रिजिजु ने गुरुवार को झांकी को पहला पुरस्कार प्रदान किया

By: Mahendra Pratap

Published: 28 Jan 2021, 06:30 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

लखनऊ. 72वें गणतंत्र दिवस पर दिल्ली के राजपथ पर उत्तर प्रदेश की झांकी को पहला पुरस्कार मिला है। राम मंदिर और दीपोत्सव पर आधारित इस झांकी ने सबका मन मोह लिया। इस झांकी को सभी झांकियों में सबसे अच्छा चुना गया। केंद्रीय युवा एवं खेल मंत्री किरण रिजिजु ने गुरुवार को झांकी को पहला पुरस्कार प्रदान किया। उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल, सूचना निदेशक शिशिर और टीम ने दिल्ली में पुरस्कार ग्रहण किया।

घूसखोरी पर सीएम योगी का जनता से निवेदन, अगर कोई घूस मांगे तो निसंकोच करें शिकायत नम्बर जारी

उत्तर प्रदेश के सूचना निदेशक शिशिर ने इस सम्मान की जानकारी ट्वीट कर दी। सूचना निदेशक शिशिर ने अपने ट्वीट में लिखा कि, इस वर्ष के गणतंत्र दिवस में उत्तर प्रदेश की भव्य झांकी को प्रथम स्थान पाने का गौरव प्राप्त, सारी टीम को दिल से बधाई। गीतकार विरेंद्र सिंह को विशेष आभार। सूचना निदेशक शिशिर ने बताया यूपी को दो वर्षों से पुरस्कार मिल रहा है। पिछली बार दूसरा स्थान मिला था। लखनऊ के गीतकार व साहित्यकार वीरेन्द्र ने इस झांकी का शीर्षक गीत (थीम सांग) में अयोध्या और सीता-राम के प्रति जनमानस की आस्था का उल्लेख किया है।

जय श्रीराम के नारे से पूरा राजपथ गूंजा :- 26 जनवरी काेेे राजपथ पर जैसे ही यूपी की झांकी निकली तो वहां बैठे लोगों ने राम मंदिर मॉडल देखकर भाव विह्वल हो गए और खड़े होकर, हाथ जोड़कर नमन किया। इसके बाद जय श्रीराम के नारे से पूरा राजपथ गूंजा दिया। झांकी को देखकर खुद पीएम नरेंद्र मोदी के चेहरे पर चमक आ गई। पिछले वर्ष अयोध्या में राम मंदिर के शिलान्यास समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'सबके हैं राम' का संदेश भी दिया था।

राम मंदिर और दीपोत्‍सव की झलक :- इस बार गणतंत्र दिवस पर यूपी की झांकी अयोध्या के राम मंदिर पर आधारित थी। यह पहली बार था कि राजपथ पर अयोध्‍या में बनने वाले राम मंदिर और दीपोत्‍सव की झांकी न‍िकाली गई। यूपी की झांकी में एक हिस्से में रामायण की रचना करते महर्षि वाल्मिकी को दिखाया गया, मध्य भाग में राम मंदिर का पूरा मॉडल दिखाया गया था। भित्ति चित्रों में भगवान राम का निषादराज को गले लगाना, शबरी के जूठे बेर खाना, अहिल्या का उद्धार, हनुमान का संजीवनी बूटी लाना, जटायु-राम संवाद, लंका नरेश की अशोक वाटिका और अन्य दृश्यों को दिखाया गया।

गोरखपुर के उद्योगपतियों ने खोला खजाना :- गोरक्षपीठाधीश्वर व सीएम योगी की पहल पर गोरखपुर के उद्योगपतियों ने राम मंदिर निर्माण के लिए करीब नौ करोड़ रुपए चंदा एकत्र किया गया। जिसमें गोरखनाथ मंदिर की तरफ से एक करोड़ रुपए की सहायता राशि दी गई। गोरक्षपीठाधीश्वर ने ही श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के नाम से बना चेक ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय को सौंपा है।

इनमें शामिल उद्योगपतियों में शुद्ध प्लस समूह 1.52 करोड़, आईजीएल 1.11 करोड़, गैलेंट समूह एक करोड़ एक लाख का ग्यारह हजार, अंकुर उद्योग ने 1.1 करोड़, जालान कान कास्ट ने 32 लाख तो समाजसेवी व सूरत साड़ी के शंभू शाह ने 31 लाख दिए रुपए का चेक दिया है। इसके अलावा आरपीएम एकेडमी समूह के प्रबंध निदेशक अजय शाही व निदेशक आराधना शाही की ओर से दूसरी बार 1.1 लाख, मेयर सीताराम जायसवाल ने भी दूसरी बार 1.25 लाख रुपए की मदद की है।

Ram Mandir
Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned