पीजीआई और लोहिया संस्थान में कोरोना जांच के लिए देना होगा शुल्क, तीन हजार में होगी मरीज और तीमारदार की जांच

कोरोना की जांच करने वालों के लिए एक बुरी खबर। एसजीपीजीआई लखनऊ और लोहिया संस्थान में सामान्य ओपीडी में आने वाले मरीजों को अब कोरोना जांच के लिए 1500 रुपए देने पड़ेंगे।

By: Mahendra Pratap

Updated: 24 Jun 2020, 11:34 AM IST

लखनऊ. कोरोना की जांच करने वालों के लिए एक बुरी खबर। एसजीपीजीआई लखनऊ और लोहिया संस्थान में सामान्य ओपीडी में आने वाले मरीजों को अब कोरोना जांच के लिए 1500 रुपए देने पड़ेंगे। यही नहीं तीमारदारों को भी फीस अदा करनी पड़ेगी। पर इमरजेंसी, फीवर क्लीनिक और संदिग्ध स्थिति में आने वाले मरीजों की जांच निशुल्क की जाएगी।

अभी तक एसजीपीजीआई लोहिया संस्थान में मरीजों और तीमारदारों की कोरोना जांच निशुल्क होती थी। पर अब दोनों को 1500 रुपए प्रति व्यक्ति देना पड़ेगा। पीजीआई में फीवर क्लीनिक में जो मरीज आते हैं उन्हें कोविड-19 अस्पतलाल भेजा जाता है वहां अभी भी जांच निशुल्क होती है। पीजीआई के मुख्य भवन में आने वाले मरीजों और तीमारदारों को शुल्क देना होगा। क्योंकि बिना कोरोना जांच तीमारदारों को प्रवेश मना है। पीजीआई में जिन मरीजों को ऑपरेशन की तारीख मिल है, उनकी जांच पहले फ्री थी पर अब उन्हें भी कोरोना जांच के लिए पैसे अदा करने पड़ेंगे। पीजीआई की सामान्य ओपीडी में फिलहाल रोजाना करीब 250 मरीज आ रहे हैं।

मुख्य चिकित्सक डॉ अमित अग्रवाल ने कहा कि सामान्य पीसीआर और टेस्टिंग का 1500 रुपए शुल्क लिया जाएगा, ऐसे में सर्जरी कराने वाले मरीजों के तीमारदारों की जांच करानी होगी। इसके लिए दोनों को मिलाकर 3000 रुपए देने पड़ेंगे। संस्थान के निदेशक प्रोफेसर आरके धीमान ने बताया कि शासन के तय अनुसार ही 1500 रुपए लिए जा रहे हैं।

लोहिया संस्थान की फीवर क्लिनिक और इमरजेंसी में मरीजों की कोरोना जांच मुफ्त होगी। यहां इमरजेंसी में करीब 200 मरीज आते हैं। सर्जरी, सेमी सर्जरी, डायलिसिस, एमआरआई और ईको जैसी जांच के लिए आने वाले मरीजों और तीमारदारों को कोरोना जांच का भी शुल्क देना पड़ेगा। वहीं केजीएमयू में जांच अभी भी फ्री है।

coronavirus
Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned