शिया वक्फ बोर्ड चेयरमैन वसीम रिजवी की सलाह, शवों को जलाएं, दफनाएं नहीं मुस्लिम

शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने मुसलमानों को एक सलाह दी, जिसमें कहाकि अगर कोरोना वायरस से किसी मुस्लिम समुदाय के व्यक्ति की मौत हो जाती है तो वह उसे कब्रिस्तान में दफनाने की जगह उसे जला दें। क्योंकि अगर उस शव को दफनाया जाता है तो कोरोना वायरस के फैलने की आशंका बनी रहती है।

By: Mahendra Pratap

Updated: 19 Mar 2020, 04:04 PM IST

लखनऊ. शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने मुसलमानों को एक सलाह दी, जिसमें कहाकि अगर कोरोना वायरस से किसी मुस्लिम समुदाय के व्यक्ति की मौत हो जाती है तो वह उसे कब्रिस्तान में दफनाने की जगह उसे जला दें। क्योंकि अगर उस शव को दफनाया जाता है तो कोरोना वायरस के फैलने की आशंका बनी रहती है।

उत्तर प्रदेश में गुरुवार तक कोरोना वायरस के 19 मरीजों के पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है। इनमें आगरा के आठ, गाजियाबाद के दो, नोएडा के चार, लखनऊ के पांच मरीज शामिल हैं।

प्रदेश में फैल रहे कोरोना वायरस से बचाव करने के लिए शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने गुरुवार को एक बड़ा बयान जारी किया। जिसमें मुस्लिम समुदाय के व्यक्तियों को कहा, अगर मुस्लिम समुदाय के किसी व्यक्ति की मौत कोरोना वायररस की वजह से हो जाती है तो उसे दफनाएं नहीं बल्कि उसे जला दे। इसके लिए लकड़ी या इलेक्ट्रिक मशीन का प्रयोग किया जा सकता है। इससे वायरस समाप्त हो जाएगा। दफनाने पर उसके पनपने की संभावना बनी रह सकती है। वसीम रिजवी ने बताया कि शिया वक्फ बोर्ड अपने कब्रिस्तानों में ऐसा करने का विचार भी कर रहा, कोरोना से साथ मिलकर लड़ने की जरूरत है।

वहीं दूसरी तरफ लखनऊ में मुस्लिम धर्मगुरु मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली ने कोरोना वायरस को लेकर हिदायत दी कि ”लोग बड़ी मस्जिदों की जगह मोहल्ले की छोटी मस्जिदों में जुमे की नमाज पढ़े। इसके साथ ही बुजुर्ग और छोटे बच्चे घरों में ही नमाज पढ़े।”

Corona virus coronavirus
Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned