सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार को दिखाया आईना, सरकार चाहती तो श्रमिकों व कामगारों की 70 हजार बसों से करा सकती थी घर वापसी

लॉकडाउन से नहीं रुका कोरोना वायरस
यूपी सरकार चाहती तो मजदूरों के लिए बस लगा सकती थी
ललितपुर में गौशाला में इंसान-जानवर साथ-साथ बंद
सपा प्रमुख अखिलेश यादव खुशी से झूमे
किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं

By: Mahendra Pratap

Updated: 29 May 2020, 02:23 PM IST

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय मुखिया अखिलेश यादव ने यूपी सरकार की कई मुद्दों पर जमकर खिंचाई की। सपा मुखिया अखिलेश यादव ने कहा कि पहले कहा जा रहा था कि लॉकडाउन से कोरोना वायरस रुक जाएगा, पर ऐसा हुआ नहीं, कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। उन्होंने घर वापसी कर रहे श्रमिकों और कामगारों के बारे में कहाकि यूपी में 70 हजार बसें हैं, सरकार चाहती तो मजदूरों के लिए बस लगा सकती थी। इसके अलावा भी सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव कई मुद्दों पर बड़ी बेबाकी से बोले। आगामी विधानसभा चुनाव में साफ-साफ कहाकि किसी से भी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेंगे। एक बार छोटी पार्टियों के बारे में सोचा जा सकता है।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय मुखिया अखिलेश यादव ने शुक्रवार को एक निजी कार्यक्रम में योगी सरकार सहित कई मुद्दों पर पूछे गए सवालों का जवाब दिए। अखिलेश यादव ने कोरोना वायरस, लॉकडाउन, घर वापसी कर रहे श्रमिकों व कामगारों की व्यवस्था सहित कई मुद्दों पर सीएम योगी आदित्यनाथ को निशाने पर रखते हुए उन्हें आईना दिखाया। अखिलेश यादव ने कहा कि अगर आपने लॉकडाउन किया था तो मजदूरों के रुकने का इंतजाम क्यों नहीं किया। या फिर उन्हें ट्रेन या बस से घर क्यों नहीं पहुंचाया। उत्तर प्रदेश में करीब 70 हजार बसें हैं, अगर सरकार चाहती तो कोई भी मजदूर पैदल नहीं जाता। आखिरकार सरकार को ट्रेन चलानी ही पड़ी। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहाकि सरकार ने लोगों को डराया है, मजदूर डर की वजह से घर की तरफ पैदल ही चल दिए, मजदूर को लगा कि अगर मरना ही है तो घर पहुंचकर मरें। सीएम योगी ने सीमाएं सील कर दी, मजदूरों को पहाड़ों से चलकर जाना पड़ा।

सपा प्रमुख अखिलेश यादव खुशी से झूमे :- सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने अपने काम की वाहवाही करते हुए कहाकि मुझे खुशी है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उन्हीं अस्पताल में जा रहे हैं जो समाजवादी सरकार ने बनाए थे। आज वहीं एम्बुलेंस काम आ रही हैं जो सपा सरकार ने दी थी। सपा प्रमुख ने पक्षपात का आरोप लगाते हुए कहाकि सभी मेडिकल कॉलेज में फूल बरसाए लेकिन आपने सैफई, आजमगढ़ के अस्पतालों में फूल नहीं बरसाए।

ललितपुर में गौशाला में इंसान-जानवर साथ-साथ बंद :- यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने कार्यकर्ताओं को शाबासी देते कहा कि समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता 51 दिन से एक्सप्रेस-वे पर लोगों को खाना खिला रहे हैं, हम लगातार लोगों से संपर्क में हैं और निर्देश दे रहे हैं, मैंने मजदूरों की तकलीफ देखी है। मेरठ और अलीगढ़ में हमारे कार्यकर्ताओं पर खाना खिलाने को लेकर एफआईआर दर्ज हुई है। अगर एफआईआर दर्ज ही कर ली गई है तो आप गिरफ्तार क्यों नहीं कर रहे हैं। ललितपुर में गौशाला के अंदर इंसान और जानवर एक साथ बंद थे।

यूपी सरकार चाहती तो मजदूरों के लिए बस लगा सकती थी :- यूपी में बस विवाद पर समाजवादी पार्टी मुखिया अखिलेश यादव ने कहा कि यूपी में करीब 70 हजार बसें हैं, सरकार चाहती तो मजदूरों के लिए बस लगा सकती थी। जब कोटा से बच्चों को निकाला गया तो मजदूरों को क्यों नहीं निकाला गया। मुझे कभी-कभी लगता है कि कांग्रेस और भाजपा का रास्ता एक जैसा है, भाजपा की सरकार हटे और नई सरकार बने, यूपी में समाजवादियों का यही लक्ष्य है।

किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं :- अखिलेश यादव ने कहा कि इस बार के चुनाव में हम किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेंगे। छोटी पार्टियों के बारे में सोच सकते हैं। और उनको साथ में लेकर चला जा सकता है। सोनिया गांधी की विपक्षी मीटिंग में शामिल न होने के सवाल पर अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी यूपी में अकेले काम कर रही है, हम कांग्रेस और भाजपा से दूरियां बनाकर चल रहे हैं।

coronavirus
Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned