बांके को नहीं चढ़ेगा माला-फूल, हर घंटे सैनेटाइज होगा बाबा विश्वनाथ का मंदिर, भक्तों के लिए जरूरी होगा मास्क

-8 जून से यूपी में होंगे भगवान के दर्शन
-मंदिरों में दर्शन की तैयारियां शुरू

By: Mahendra Pratap

Updated: 01 Jun 2020, 04:24 PM IST

पत्रिका ग्राउंड रिपोर्ट
महेंद्र प्रताप सिंह
लखनऊ. अनलॉक-1 में 1 जून के बाद यूपी में सभी कार्यालय पूरी तरह से खुल गए हैं। बाजारों में भी चहल-पहल शुरू हो गयी है। शापिंग कांप्लेक्स खुल रहे हैं। इसी के साथ अब मंदिरों के कपाट खोलने की तैयारियांं शुरू हो गयी हैं। भक्तों में भगवान के दर्शन की बेसब्री है। रामजन्मभूमि अयोध्या, कृष्णजन्मभूमि मथुरा, शिवनगरी काशी और तीन नदियों के संगम प्रयागराज के अलावा जैन और बौद्ध धर्म के अनुयायियों के भी धार्मिक स्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग के प्रबंध होंगे। मंदिरों के महंत और पुजारियों ने आश्वस्त किया है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने का पूरा इंतजाम होगा। किसी भी मंदिर में जाने के लिए भक्तों को साफ-सुथरा मास्क पहनना आवश्यक होगा। मंदिरों को हर घंटे सैनेटाइज किया जाएगा। भगवान को फूल-माला चढ़ाने पर रोक होगी। आइए जानते हैं काशी,मथुरा,प्रयाग और अयोध्या के मंदिरों में किस तरह हो रही हैं तैयारियां-

रामजन्मभूमि जैसी व्यवस्था होगी हर मंदिर में :- मंदिरों की नगरी अयोध्या में कनक भवन, हनुमानगढ़ी, श्रीरामजन्मभूमि, नागेश्वरनाथ, मणिराम दास छावनी, जानकी महल, राम हर्षण कुंज, श्रीरामवल्लभा कुंज, छोटी देवकाली, धीरेश्वर नाथ महादेव मंदिर, जानकी घाट बड़ा स्थान, दशरथ महल जैसे मंदिरों में साफ-सफाई के व्यापक प्रबंध किए हैं। रामजन्मभूमि के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने बताया-राम जन्मभूमि परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ दर्शन की व्यवस्था है। इसी तरह अन्य मंदिरों में भी व्यवस्था होगी। हनुमानगढ़ी के पुजारी राजू दास के मुताबिक सोशल डिस्टेंसिंग के साथ पूजन अर्चन की अनुमति होगी।

काशी विद्वत परिषद ने संभाली जिम्मेदारी :- काशी विश्वनाथ मंदिर सहित काशी के अन्य मंदिरों और बौद्व-जैन मंदिरों को 8 जून का इंतजार है। संकटमोचन हनुमान मंदिर में वैरिकेडिंग का दायरा बढ़ाया जा रहा है। काशी अन्नपूर्णा मठ मन्दिर व अन्नक्षेत्र क्षेत्र से जुड़े संत श्याम माधव के मुताबिक मंदिरों के कपाट खोलने की तैयारियां शुरू हो गयी हैं। काशी विद्वत परिषद ने काशी विश्वनाथ मंदिर, संकट मोचन मंदिर, अन्नपूर्णा मंदिर, दुर्गा मंदिर, महामृत्युंजय मंदिर, कालभैरव, जगन्नाथ मंदिर समेत प्रमुख मंदिरों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाने की जिम्मेदारी उठायी है। वहीं काशी विश्वनाथ मन्दिर के कार्यपालक अधिकारी विशाल सिंह का कहना है काशी विश्वनाथ मंदिर को हर घंटे सैनेटाइज करवाने की व्यवस्था की जा रही है। श्रद्वालुओं को टोकन सिस्टम के आधार पर मंदिर में प्रवेश मिलेगा।

संगम नगरी में हर गाइडलान का होगा पालन :- संगम नगरी में प्रयागराज में विश्व प्रसिद्द बड़े हनुमान मंदिर, बेनी माधव मंदिर, मनकामेश्वर धाम, पांडेश्वर धाम और अलोप शंकरी मंदिरों में साफ-सफाई जोरो पर चल रही है। बड़े हनुमान मंदिर के छोटे महंत योग गुरु स्वामी आनंदगिरी ने बताया कि महंत और पुजारी नई गाइड लाइन के पालन को तैयार हैं। प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग जो गाइड लाइन जारी करेंगे उसी के अनुसार दर्शन की व्यवस्था होगी।

कृष्ण नगरी में भी शुरू हो गयीं तैयारियां :- भगवान श्रीकृष्ण जन्मस्थान मंदिर मथुरा और श्री बांकेबिहारी मंदिर में 8 जून के बाद सीमित संख्या में भक्तों को मंदिर में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। मंदिर प्रशासकों ने निर्णय लिया है कि बांके बिहारी समेतत अन्य मंदिरों में भी भगवान को फूल माला का अर्पण नहीं किया जाएगा। श्रीकृष्ण जन्मस्थान के विशेष अधिकारी विजय बहादुर सिंह ने बताया कि मंदिर में सैनिटाइजर से लेकर सोशल डिस्टेंसिंग तक का प्रबंध हो चुका है। बिना मास्क किसी को मंदिर में प्रवेश नहीं मिलेगा। बस इंतजार है शासन के आदेश का।

Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned