पशुप्रेमियों के लिए अच्छी खबर, यूपी में बढ़ा गजराज का कुनबा, संख्या जानकर हो जाएंगे हैरान

नई जनगणना में हाथियों की संख्या 352 हुई
वर्ष 2017 में यूपी के जंगलों में कुल 232 हाथी थे
नेपाल के हाथियों ने भी बनाया यूपी को अपना नया बसेरा

By: Mahendra Pratap

Published: 24 Jun 2020, 03:28 PM IST

लखनऊ. कोरोना काल में खुशियां थोड़ी कम हो गई है। प्रदेश में जंगलात का इलाका बढ़ने से जंगली पशु पक्षियों के लिए चहलकदमी का बड़ा इलाका मिल गया है। जून माह के पहले हफ्ते में प्रदेश में हाथियों की जनगणना हुई, जिसमें प्रदेश के लिए एक बड़ी खुशखबरी आई। इस खुशखबर से पशुप्रेमियों को सुकून मिलेगा। यूपी में गजराज का कुनबा बढ़ गया है। तीन वर्ष के बाद हुई हाथियों की जनगणना में 120 नए गजराज शामिल हुए हैं। इस वक्त यूपी में कुल संख्या 352 हो गई है। वर्ष 2017 में यूपी के जंगलों में कुल 232 हाथी हुआ करते थे।

दुधवा टाइगर रिजर्व में इस वक्त सबसे ज्यादा 149 हाथी मौजूद हैं। प्रदेश के अमानगढ़ टाइगर रिजर्व में भी हाथियों की संख्या 82 है। बिजनौर वन प्रभाग, नजीबाबाद में 103 हाथी हैं जबकि शिवालिक वन प्रभाग, सहारनपुर में 18 हाथी मौजूद हैं। उत्तराखंड व उत्तर प्रदेश में छह, सात, आठ जून को हाथियों की जनगणना हुई थी। इसे जंगल, पर्यावरण और वन्यजीवों के लिहाज से अच्छा संकेत माना जा रहा है।

हाथियों का बदल गया है मूड़ :- वन एवं वन्य जीव विभाग के अफसरों के अनुसार उत्तर प्रदेश में पाए जाने वाले हाथी सामान्यत: प्रवासी (माइग्रेट्री) होते हैं। ये हाथी गन्ने के सीजन में पड़ोसी देश नेपाल और उत्तराखंड से यूपी में आते हैं, दो-चार महीने रुक कर फिर वापस लौट जाते हैं। पर लगता है अब उनका मूड कुछ बदल गया है। यूपी के जंगलों में अच्छी-खासी संख्या में ऐसे हाथी हैं, जो अब नेपाल नहीं लौट रहे हैं। इसकी वजह भारत-नेपाल सीमा पर नेपाल की ओर सड़क का बनना और जंगलों का बड़े पैमाने पर सफाया माना जा रहा है। इसलिए नेपाल से सटे दुधवा और कतर्नियाघाट में इनकी संख्या अच्छी-खासी है।

जनगणना की एक ट्रिक पानी :- हाथियों को एक दिन में न्यूनतम 200 लीटर पानी की आवश्यकता होती है। गणना का समय गर्मियों में रखा जाता है, जब पानी के स्थान सीमित होते हैं। जंगल में बड़े जलाशयों पर हाथी दिन में एक बार जरूर आते हैं। इसलिए इन्हीं जलाशयों के नजदीक वन विभाग की टीम गणना के लिए मौजूद रहती है।

Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned