उत्तर प्रदेश विधानसभा में हंगामा, अलीगढ़ में लाठीचार्ज मुद्दे पर कांग्रेस-सपा का वॉकआउट

उत्तर प्रदेश विधानसभा में सोमवार को कार्यवाही शुरू होने के बाद अलीगढ़ हिंसा का मामला विधानसभा में उठाया। समाजवादी पार्टी के राम गोविंद चौधरी ने इस मुद्दे पर चर्चा की मांग की। जिस पर विधानसभा अध्यक्ष ने प्रश्नकाल के बाद इस मुद्दे पर चर्चा की बात कही।

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा में सोमवार को कार्यवाही शुरू होने के बाद अलीगढ़ हिंसा का मामला विधानसभा में उठाया। समाजवादी पार्टी के राम गोविंद चौधरी ने इस मुद्दे पर चर्चा की मांग की। जिस पर विधानसभा अध्यक्ष ने प्रश्नकाल के बाद इस मुद्दे पर चर्चा की बात कही। इसके बाद सदन में तीखी नोकझोंक शुरू हो गई। इसी मुद्दे पर कांग्रेस ने भी सपा के सुर में सुर मिलाया। और सपा और कांग्रेस सदन से वॉकआउट कर गए।

उत्तर प्रदेश विधानसभा में बजठ सत्र चल रहा है। विधानसभा में सोमवार को अलीगढ़ में महिला प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज किए जाने का मुद्दे ने अचानक जोर पकड़ लिया। नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी की तरफ से नियम 56 के तहत कानून व्यवस्था और अलीगढ़ के मुद्दे पर चर्चा की मांग की गई। जिस पर विधानसभा अध्यक्ष ने प्रश्नकाल के बाद इस मुद्दे पर चर्चा की बात कही।

नेता विपक्ष समाजवादी पार्टी के राम गोविंद चौधरी ने आरोप लगाया कि महिलाओं पर लाठीचार्ज किया गया और रविवार को अलीगढ़ में सीएए के विरोध प्रदर्शन के दौरान आंसू गैस के गोले दागे गए। इस पर संसदीय कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने उन पर हर बार एक ही मुद्दा उठाकर सदन का समय बर्बाद करने का आरोप लगाया। सुरेश कुमार खन्ना ने कहा, मैं पूछना चाहता हूं कि विरोध प्रदर्शनों को हवा कौन दे रहा है और यूपी में कौन इससे (नागरिकता कानून) प्रभावित हो रहा है।

इस पर नाराजगी जाहिर करते हुए समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के विधायकों ने सदन का वॉकआउट कर दिया। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने समाजवादी पार्टी और भाजपा पर शांतिपूर्ण चल रहे आंदोलनों को उकसाने का और लाठीचार्ज करने का आरोप लगाया। नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा कि लोकतंत्र में प्रदर्शन करना सभी का अधिकार है। उनका कहना है कि प्रदेश सरकार प्रदर्शनकारियों पर दमनकारी नीति अपनाते हुए लाठीचार्ज नहीं कर सकती।

आंदोलन को दमन क्यों कर रही भाजपा :- कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू ने पूछा कि आखिर भाजपा शांतिपूर्ण आंदोलन को दमन क्यों कर रही है? पिछले दिनों जब महिलाएं धरने पर बैठने जा रही थी तो प्रशासनिक अफसरों ने पहले वहां पानी डाल दिया था, उन्हें बैठने से मना कर दिया। फिर भी महिलाएं डटी रहीं और वहां धरने पर बैठ कर आंदोलन चलाने का काम किया। उन्होंने कहा कि इस मामले में रविवार को डीएम ने कहा कि हम किसी भी तरह से इस आंदोलन को चलने नहीं देंगे। कांग्रेस प्रदेश अध्य़क्ष का आरोप है कि सरकार के स्तर पर आंदोलन को कुचलने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने दबाव बनाकर लाठीचार्ज कराने की भी बात कही। इस मामले में उन्होंने कहा कि कुछ अराजक तत्वों ने गोली चलाई, उसका वीडियो फुटेज भी है। उन्होंने सरकार पर लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाया। कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा मोना ने भी आरोप लगाया कि सरकार महिला प्रदर्शनकारियों पर अत्याचार कर रही है।

विपक्ष पर मुद्दा नहीं :- इस मामले में संसदीय कार्यमंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है, इसलिए वे नियम के विरुद्ध खड़े हो जाते है और ये सड़क पर उपद्रव करते है। जनता के इस सवाल पर जब सरकार जवाब देती है, ये असंसदीय भाषा का प्रयोग करते है, अपने हित के लिए सड़क पर बवाल कराते हैं।

अलीगढ़ में उपद्रव :- नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में रविवार को अलीगढ़ में जमकर हिंसा हुई। अलीगढ़ के ऊपरकोट, शाहजमाल और डेहलीगेट पर उपद्रव हुआ। कुछ उपद्रवियों ने धार्मिक स्थलों के पास पत्थरबाजी की। हालांकि हालात की संवदेनशीलता को देखते हुए शाम 6 बजे से इटंरनेट सेवाएं बाधित कर दी गई।

Congress
Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned