उत्तर प्रदेश बजट 2020 में अयोध्या के विकास के लिए बरसा धन

रामलला की जन्मभूमि 595 करोड़ रुपए दिए गए
पर्यटन के हाई लेवल सुविधाओं के विकास के लिए 85 करोड़ रुपए
अयोध्या एयरपोर्ट के लिए 500 करोड़ रुपए
तुलसी स्मारक भवन के लिए 10 करोड़ रुपए

लखनऊ. उत्तर प्रदेश बजट 2020 में मंगलवार को रामनगरी अयोध्या के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र बाबा भोलेनाथ की नगरी काशी के विकास और उसे धार्मिक पर्यटन से जोड़ने के लिए ढेर सारे धन की बरसा की गई। उत्तर प्रदेश बजट में रामलला की जन्मभूमि अयोध्या को जहां 595 करोड़ रुपए दिए गए वहीं वाराणसी को 398 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई।

उत्तर प्रदेश बजट 2020 में आज मंगलवार को वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने उत्तर प्रदेश के इतिहास की सबसे बड़ा बजट 5 लाख 12 हजार आठ सौ साठ करोड़ रुपए का पेश किया है। योगी सरकार का यह चौथा बजट है।

अयोध्या में पर्यटन के लिहाज से हाई लेवल सुविधाओं के विकास के लिए 85 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है। साथ ही अयोध्या एयरपोर्ट के लिए 500 करोड़ रुपए दिए गए, जबकि तुलसी स्मारक भवन के लिए 10 करोड़ रुपए की व्यवस्था हुई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में सांस्कृतिक केंद्र की स्थापना के लिए 180 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है। योगी सरकार ने काशी विश्वनाथ मंदिर विस्तारीकरण और सौंदर्यीकरण योजना के लिए 200 करोड़ रुपए दिए हैं। साथ में काशी हिंदू विश्वविद्यालय के अंतर्गत वैदिक विज्ञान केंद्र के निर्माण के लिए 18 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है।

कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए 8 करोड़ रुपए एवं सिंधु दर्शन यात्रा अनुदान के लिए 10 लाख की व्यवस्था प्रस्तावित है।

उत्तर प्रदेश पर्यटन नीति के अंतर्गत पर्यटन इकाइयों को प्रोत्साहन के लिए 50 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है। गोरखपुर के रामगढ़ ताल में वाटर स्पोर्ट्स के लिए 25 करोड़ रुपए की व्यवस्था है जबकि काशी विश्वनाथ मंदिर के लिए 200 करोड़ रुपए दिए जाएंगे।

Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned