विश्व रैबीज दिवस : जैसे ही कुत्ता-बंदर काटे, तुरंत डाक्टर से करें सम्पर्क

पहला रेबीज टीका बनाने वाले फ्रांस के प्रसिद्ध रसायनज्ञ और सूक्ष्म जीव विज्ञानी लुई पाश्चर की पुण्यतिथि 28 सितंबर को विश्व रेबीज दिवस के रूप में मनाया जाती है।

By: Mahendra Pratap

Published: 28 Sep 2020, 02:30 PM IST

लखनऊ. यूपी की राजधानी लखनऊ में रोजाना करीब 300 लोग कुत्ते या अन्य किसी जानवर के काटने के बाद इंजेक्शन लगवाने आते हैं। एक महीने में करीब 1000 मरीज। रैबीज की बीमारी सिर्फ कुत्ते से ही नहीं बिल्ली, बंदर, चमगादड़, गाय-भैंस, चूहों, लोमड़ी, भेड़िया जैसे जानवरों से भी हो सकती है। यूपी में ज्यादातर रेबीज के मामले कुत्ते या बिल्ली के काटने से आते हैं।

पहला रेबीज टीका बनाने वाले फ्रांस के प्रसिद्ध रसायनज्ञ और सूक्ष्म जीव विज्ञानी लुई पाश्चर की पुण्यतिथि 28 सितंबर को विश्व रेबीज दिवस के रूप में मनाया जाती है। रेबीज को पूरी दुनिया से खत्म करने के लिए वर्ष 2030 तक का टारगेट रखा गया है। और हर वर्ष कोई न कोई स्लोगन रखा जाता है।

लखनऊ के दुबग्गा में डाक्टर मो. अंसारी ने बताया कि, अगर कुत्ते ने काट लिया हो और दस दिन में कुत्ता मर जाता है तो समझा लेना चाहिए कि कुत्ते को रैबीज था। अगर वो जानवर 10 दिन बाद भी स्वस्थ रहता है, तो माना जाता है कि मरीज को रेबीज का संक्रमण नहीं हुआ है और उसे दी जा रही एंटी रेबीज वैक्सीन बंद कर दी जाती हैं। रेबीज से बचने के लिए सही समय पर प्रिवेन्टिव उपाय जरूरी हैं।

वैसे तो अगर कोई भी जानवर काट लें तो सबसे पहले जख्म को साबुन और नल के बहते पानी से 10-15 मिनट तक लगातार धोएं। फिर जख्म को डिटॉल, आयोडीन एंटीसेप्टिक या आफ्टर शेव से अच्छी तरह साफ कर लें। ऐसा करने से पशु की लार में पाए जाने वाले वायरस की मात्रा कुछ कम हो जाती है। उसके तुरंत बाद मरीज को वैक्सीनेशन जरूर कराना चाहिए। जख्म पर हल्दी, तेल या मिर्च लगाना गलत है।

गोरखपुर जिला अस्पताल में के एसआईसी डॉ. एसी श्रीवास्तव ने बताया कि जिस व्यक्ति को कुत्ता काट ले उसे चार एंटी रेबीज इंजेक्शन लगाया जाता है। एक उस दिन जिस दिन कुत्ते ने काटा, दूसरा काटने के तीसरे दिन, तीसरा सातवें दिन और चौथा 28वें दिन लगवाना चाहिए।

Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned