scriptMahilaon ka Sankalp - make Uttar Pradesh to Uttam Pradesh | उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने का महिलाओं ने लिया संकल्प | Patrika News

उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने का महिलाओं ने लिया संकल्प

- नीता अहिरवार ने योगी सरकार की दो बड़ी योजनाओं से हजारों महिलाओं को जोड़ा

- महिलाओं के उत्थान के महिलाओं ने बढ़ाए कदम*

 

लखनऊ

Updated: August 22, 2021 11:15:37 pm

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ. मिशन शक्ति अभियान के पहले दूसरे चरण को सफल बनाने में योगदान देने वाली महिलाओं को पुरस्कृत किया गया इन महिलाओं में महिला एवं बाल विकास विभाग से बरेली मंडल की उपनिदेशक नीता अहिरवार और वाराणसी जनपद की संरक्षण अधिकारी निरुपमा सिंह भी शामिल थी। जिन्होंने न सिर्फ इस अभियान के दोनों चरणों को सफल बनाने में अपना योगदान दिया बल्कि ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को रोजगार की मुख्यधारा से भी जोड़ने का कार्य किया है।

उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने का महिलाओं ने लिया संकल्प
Pattrika

बरेली मंडल की उपनिदेशक नीता अहिरवार

नीता अहिरवार ने कोविड-19 के दौरान जनपद बरेली मे विभिन्न विभागों के मध्य मिशन शक्ति के नोडल अधिकारी के रूप में कार्य किया। नीता द्वारा जनपद स्थित विभागों के साथ-साथ स्वेैच्छिक संगठनों तथा विभिन्न उद्यमियों को मिशन के साथ जोड़ने में अहम भूमिका निभाई गई। साथ ही मिशन के उददेश्यों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए इनके द्वारा प्रिंट, इलेक्ट्रिानिक, रेडियो एफ. एम., सोशल मीडिया (फेसबुक, वाटसऐप, ट्वीटर) का विशेष रूप से प्रयोग किया गया।

हजारों महिलाओं को योजनाओं से जोड़ा

बरेली जनपद में उन्होंने मिशन शक्ति की अवधि के दौरान पति की मृत्युपरांत निराश्रित महिला पेंशन योजना से लगभग 7000 नवीन महिलाओं तथा मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना में लगभग 8000 नये लाभार्थियों को जोड़ा। इनके नेतृत्व में बरेली में मिशन स्वावलंबन को महत्व देते हुये, महिला शारणालय बरेली की महिलाओं के साथ ‘‘हुनर की पाठशाला‘‘ कार्यक्रम की शुरूआत की गई।जिसके जरिए से महिलाओं को विभिन्न कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रमों से जोड़ा जा रहा है साथ ही विद्यालयों के स्तर पर लगभग 260 मास्टर प्रशिक्षक तैयार कर 25000 से ज्यादा बालिकाओं को ‘‘आत्मरक्षा प्रशिक्षण‘‘ दिलाया है।

193 बच्चों को स्पॉन्सरशिप योजना के लिए किया चिन्हित

निरूपमा सिंह ने भी कोविड के जिला बाल संरक्षण इकाई में कार्यरत् होने के साथ-साथ, वन स्टॉप सेंटर, बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना, उत्तर प्रदेश रानी लक्ष्मी बाई महिला एवं बाल सम्मान कोष आदि के क्रियान्वयन में अहम भूमिका निभाई। मिशन शक्ति अभियान के दौरान निरूपमा का फोकस रहा कि ऐसे तंत्र बनाये जायें जो मिशन के बाद भी महिलाओं विशेषकर बालिकाओं को सुरक्षा तथा संरक्षण प्रदान करें। उन्होंनें ग्राम बाल संरक्षण समिति व ब्लॉक बाल संरक्षण समिति की नियमित बैठकें कर बालिकाओं को बाल विवाह व यौन शोषण के मुद्दों पर विशेष रूप से जागरूक किया।

बाल विवाह के खिलाफ लोगों को किया कि जाएगा जागरूक

निरूपमा ने मिशन के दौरान संपूर्ण वाराणसी में बाल-विवाह के विरूद्ध जन-सामान्य को जागरूक करने के प्रयास किये। कोविड के दौरान ही मिशन के अंतर्गत 18 बाल विवाहों की सूचना प्राप्त होने पर उन्हें रूकवाया। मिशन के अंतर्गत बाल संरक्षण के मुद्दों पर लगातार बैठक के परिणाम स्वरूप जनपद में 193 बच्चों को स्पॉन्सरशिप योजना से जोड़ने हेतु चिन्हित किया गया है। विभाग की ओर से नेतृत्व करते हुये उनके द्वारा महिलाओं व बच्चों के साथ-साथ अध्यापकों व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, को भी महिलाओं के प्रति हिंसा के मुददों पर प्रशिक्षित किया गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election 2022: यूपी चुनाव से पहले मुलायम कुनबे में सेंध, अपर्णा यादव ने ज्वाइन की बीजेपीकेशव मौर्य की चुनौती स्वीकार, अखिलेश पहली बार लड़ेंगे विधानसभा चुनाव, आजमगढ के गोपालपुर से ठोकेंगे तालकोरोना के नए मामलों में भारी उछाल, 24 घंटे में 2.82 लाख से ज्यादा केस, 441 ने तोड़ा दम5G से विमानों को खतरा? Air India ने अमरीका जाने वाली कई उड़ानें रद्द कीPM मोदी की मौजूदगी में BJP केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक आज, फाइनल किए जाएंगे UP, उत्तराखंड, गोवा और पंजाब के उम्मीदवारों के नामNEET Counselling 2021: राउंड 1 के लिए रजिस्ट्रेशन आज से शुरू, ऐसे करें आवेदनIPL Auction: किस टीम के पास बचा कितना पैसा? जानें मेगा ऑक्शन से जुड़ी सारी डिटेलशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.