कांग्रेस में जबरदस्त विरोध, प्रियंका गांधी वाड्रा का दौरा रद्द

- गांधी परिवार के खिलाफ संदीप और थरूर ने भी मोर्चा खोला, प्रियंका का बस्ती दौरा रद
- होली के बाद आने की हो सकती है घोषणा
- प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार सिंह लल्लू ने दौरा निरस्त होने की दी जानकारी
- 23 फरवरी को आयोजित किसान सभा भी स्थगित

पत्रिका इन्डेप्थ स्टोरी.
लखनऊ. कांग्रेस पार्टी में शीर्ष नेतृत्व को लेकर मचे घमासान के बीच पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव और उप्र कांग्रेस की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा की यूपी में आयोजित किसान सभा फिलहाल स्थगित हो गयी है। उन्हें 23 फरवरी को बस्ती आना था। प्रियंका का दौरा रद होने की वजह को पार्टी में मचे घमासान से जोड़ा जा रहा है। प्रियंका गांधी पूर्वांचल से यूपी में जोरदार आंदोलन की शुरुआत करने वाली थीं। इसकी लंबे समय से तैयारी की जा रही थी। 23 फरवरी को बस्ती में किसानों की पहली सभा रखा गयी थी। इसकी तैयारियों को अंतिम रूप दिया चुका था। लेकिन गुरुवार को इस सभा को स्थगित कर दिया गया। प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने बताया है कि अपरिहार्य कारणों से प्रियंका का दौरा स्थगित किया गया है। जल्द ही नई तारीख की घोषणा की जाएगी।

ये भी पढ़ें- यूपी सरकार का बड़ा फैसला, डोनाल्ड ट्रंप की कार नहीं जाएगी ताजमहल के पास

पूर्वांचल से मजबूत करने की कोशिश
पूर्वांचल में कांग्रेस को मजबूत करने की योजना के साथ प्रियंका गांधी की निगाह वाराणसी, आजमगढ़, बस्ती के साथ गोरखपुर पर भी है। बस्ती दौरा में उन्हें 23 फरवरी को हरैया में किसान रैली को संबोधित करना था। प्रियंका के इसके बाद गोरखपुर और वाराणसी में भी इसी तरह के कार्यक्रम आयोजित हैं।

पार्टी में खुला आरोप-प्रत्यारोप
माना जा रहा है कि प्रियंका का दौरा रद होने की वजह दिल्ली चुनाव में कांग्रेस के शर्मनाक प्रदर्शन के बाद पार्टी के अंदर बढ़ता आरोप-प्रत्यारोप है। गुरुवार को दिल्ली कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद संदीप दीक्षित ने पहली बार आलाकमान को खुलकर निशाने पर लिया। इसके बाद वरिष्ठ नेता शशि थरूर भी संदीप के समर्थन में आ गए। दीक्षित ने कहा कि रिटायर होने वाले पार्टी के नेता भी कुछ नहीं कर रहे हैं। वहीं पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने भी संदीप के बयान का खुला समर्थन करते हुए माना कि देशभर के कांग्रेसी नेताओं में आलाकमान के खिलाफ नाराजगी है। संदीप दीक्षित ने कहा इतने महीनों के बाद भी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नया अध्यक्ष नियुक्त नहीं कर सके। थरूर ने ट्वीट कर कहा, 'संदीप दीक्षित ने जो कहा है वह देशभर में पार्टी के दर्जनों नेता निजी तौर पर कह रहे हैं। इनमें से कई नेता पार्टी में जिम्मेदार पदों पर बैठे हैं।' उन्होंने कहा, 'मैं सीडब्ल्यूसी से फिर आग्रह करता हूं कि कार्यकर्ताओं में ऊर्जा का संचार करने और मतदाताओं को प्रेरित करने के लिए नेतृत्व का चुनाव कराएं।'

ये भी पढ़ें- पूछताछ के लिए लाए आरोपी पर पुलिस ने किया थर्ड डिग्री का इस्तेमाल, हुई मौत, परिवार में मचा कोहराम

कई अन्य राज्यों में भी विरोध-
दिल्ली चुनाव के बाद राजस्थान से लेकर मध्य प्रदेश तक आलाकमान के खिलाफ विरोध हो रहा है। मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ सडक़ पर उतरने की धमकी दे चुके हैं। राजस्थान में सचिन पायलट और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बीच 36 का आंकड़ा चल रहा है। पंजाब में नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच कड़वाहट बढ़ती ही जा रही है।

Congress congress mp jyotiraditya scindia
Show More
Abhishek Gupta Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned