scriptmalnourished children in UP report released by yogi government | UP में कुपोषित बच्चों की संख्या में बड़ा बदलाव, 2017 से अब तक की रिपोर्ट जारी.. | Patrika News

UP में कुपोषित बच्चों की संख्या में बड़ा बदलाव, 2017 से अब तक की रिपोर्ट जारी..

उत्तर प्रदेश में शिशु मृत्यु दर और कुपोषण में कमी आई है। ऐसा साल 2017 से बाद से जारी किए गए अब तक के आंकड़े बताते हैं।

लखनऊ

Published: November 26, 2021 09:03:21 pm

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ. प्रदेश में साल 2017 से पहले जहां हजारों की तदाद में नौनिहाल संक्रमण की चपेट में आकर दम तोड़ देते थे। पूर्वी उत्तर प्रदेश सहित 38 जिले इंसेफलाइटिस से ग्रस्त थे, सैकड़ों मौतें होती थीं। पर साल 2017 के बाद से सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने जब से प्रदेश की कमान संभाली तब से उनके द्वारा नौनिहालों के लिए लागू की गई योजनाओं और कार्यों से ढेर सारे सकारात्‍मक बड़े बदलाव देखने को मिले हैं। उत्‍तर प्रदेश में कुपोषित बच्‍चों की तदाद घट रही है तो वहीं टीकाकरण में उल्‍लेखनीय इजाफा हो रहा है। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 (एनएफएचएस-5) द्वारा जारी रिर्पोट में यह तस्वीर सामने आई है।
malnutrition_20181157531.jpg
यूपी में ज्यादा सुधार हुआ
राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 के आंकड़े इस बात की गवाही दे रहे हैं कि राष्‍ट्रीय स्‍तर से ज्‍यादा यूपी में सुधार हुआ है। एनीमिया प्रभावित महिलाओं की संख्‍या में 5.1 प्रतिशत की कमी आई है । जबकि राष्‍ट्रीय स्‍तर पर यह कमी 1.8 प्रतिशत है। यूपी में बच्‍चों के वृद्धि‍ अवरोध के मामलों में 6.6 प्रतिशत की कमी हुई है। जो राष्‍ट्रीय स्‍तर पर 2.9 प्रतिशत है। राज्‍य में सामान्‍य से कम वजन के बच्‍चों के मामलों में 7.4 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है। जबकि राष्‍ट्रीय स्तर पर 3.7 प्रतिशत है।
बच्चों के स्तनपान से लेकर टीकाकरण का बढ़ा ग्राफ
प्रदेश सरकार के अथक प्रयासों का परिणाम है कि राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 में यूपी अव्‍वल है। प्रदेश सरकार ने पिछले साढ़े चार सालों में बच्‍चों के स्‍वास्‍थ्‍य से जुड़ी विभिन्‍न विशेष योजनाओं की शुरूआत की। ये सभी योजनाएं जमीनी स्‍तर पर रंग लाई जिसका परिणाम है कि बच्चों के स्तनपान से लेकर उनके टीकाकरण का ग्राफ बढ़ा है।
प्रदेश में छह माह के बच्चों का स्तनपान की दर 41.6 से बढ़कर 59.7 प्रतिशत हो गई है। बच्चों के सामान्य टीकाकरण की दर भी 51.1 से बढ़कर 69.6 प्रतिशत पर पहुंच गई है। प्रदेशवासियों में बच्चों की सेहत को लेकर जागरूकता भी बढ़ी है।
दिमागी बुखार पर लगाई लगाम
प्रदेश में साल 2017 से योगी सरकार ने विशेष अभियान चलाया। उचित रणनीति का ही परिणाम है कि वर्षों से हज़ारों बच्चों की जान ले चुकी दिमागी बुखार जैसी बीमारी में 75 प्रतिशत और उससे होने वाली मौतों में 95 प्रतिशत की कमी आई है। संक्रमण रोगों पर नियंत्रण के गोरखपुर मंडल की राष्‍ट्रीय व अन्‍तर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर सरहाना भी हुई ।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

भारत के कोरोना मामलों में आई गिरावट, पर डरा रहा पॉजिटिविटी रेटअरुणाचल प्रदेश में भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर 4.9 मापी गई तीव्रताभारत में निवेश का बेहतरीन समय, अगले 25 साल का प्लान बना सकते हैं- दावोस सम्मेलन में बोले पीएम मोदीPunjab Election 2022: अरविंद केजरीवाल आज करेंगे 'आप' के सीएम उम्मीदवार का ऐलानCorona Vaccination: 12 से 14 साल तक के बच्चों को मार्च से लगेंगे टीकेIPL 2022: हार्दिक पांड्या, राशिद खान और शुभमन गिल की चमकी किस्मत, इतने करोड़ देगी अहमदाबाद की टीमछत्तीसगढ़ के युवा वैज्ञानिक ने खोजी न्यूनतम कीमत में हृदयगति मापन की ऐसी विधि, शोध देखकर दुनिया रह गई है हैरानसर्वार्थसिद्धि योग में नववर्ष—2022 का पहला पुष्यनक्षत्र आज
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.