धर्मांतरण का देशव्यापी सिंडिकेट चलाने का आरोपी मौलाना गिरफ्तार, विदेशों से हो रही थी फंडिंग

उत्तर प्रदेश की एटीएस टीम (UP ATS) ने अवैध धर्मांतरण का देशव्यापी सिंडिकेट चलाने के आरोपी प्रसिद्ध इस्लामिक विद्वान मौलाना कलीम सिद्दीकी (Kaleem Siddiqui) को मुजफ्फरनगर से बुधवार को गिरफ्तार कर लिया।

By: Abhishek Gupta

Updated: 22 Sep 2021, 05:04 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की एटीएस टीम (UP ATS) ने अवैध धर्मांतरण का देशव्यापी सिंडिकेट चलाने के आरोपी प्रसिद्ध इस्लामिक विद्वान मौलाना कलीम सिद्दीकी (Kaleem Siddiqui) को मुजफ्फरनगर से बुधवार को गिरफ्तार कर लिया। आरोप है कि वह लोगों को बरगला कर उनका धर्म परिवर्तन (Religion Conversion) कराता था। उसे विदेशों से फंडिंग की जाती थी। यूपी एटीएस का कहना है कि संदिग्ध गतिविधियों को देखते हुए उसपर काफी समय से नजर थी। फिलहाल उससे पूछताछ की जा रही है।

यूपी एटीएस (UP ATS) का कहना है कि मौलाना कलीम दिल्ली का निवासी है और वह काफी समय से गैर मुस्लिम समाज के लोगों को गुमराह व डराकर उनका धर्मांतरण करता था व उन्हें भी इस काम में लगाता। विदेशों को उसकी फंडिंग होती थी। वह जामिया इमाम वलीउल्ला (Imam Valiullah) नामक एक ट्रस्ट संचालित करता था। और कई मदरसों को भी फंडिंग करता था। इन मदरसों के जरिए वह लोगों को जन्नत व जहन्नुम की बातों से गुमराह करता था। हवाला के जरिए उसे यह राशि भेज जाती थी।

ये भी पढ़ें- फिल्म अभिनेत्री सना खान का निकाह कराने वाला मौलाना कलीम करवाता था धर्मांतरण, विदेशी फंडिग से जुड़े तार

एडीजी कानून व्यवस्था (ADG Law and Order) प्रशांत कुमार (Prashant Kishore) का कहना है कि अब तक जो जांच की गई हैं, उसमें पाया गया है कि मौलाना के ट्रस्ट जमिया ईमाम वलीउल्लाह को बहरीन से 1.5 करोड़ रुपये सहित कुल तीन करोड़ रुपये की मिले हैं। उसको की जानी वाली फंडिंग के सबूत प्राप्त हुए हैं। फिलहाल एटीएस (ATS) की छह टीमें मामले में जांच में जुटी हैं।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned