मंत्री की फटकार के बाद सुधरे अधिकारी, रिहाइशी क्षेत्रों से हटी डैरियाँ

मंत्री के आने पर उनका जोरदार स्वागत भी किया गया लेकिन उनकी ओर से विकास संबंधी कोई ठोस आश्वासन न मिलने से जनता खासी निराश हुई।

By: Dikshant Sharma

Published: 11 Sep 2017, 09:34 PM IST

लखनऊ। इस्माइलगंज द्वितीय वार्ड से जुड़े इलाकों में रहने वाली जनता को उम्मीद थी कि सोमवार को जब नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना निरीक्षण करने आएंगे तो उनकी समस्याएं सुनेंगे साथ ही उन्हें दूर करने का आश्वासन भी मिलेगा। सुबह से ही लोग हाथों में फूल-माला लेकर उनकी राह देख रहे थे। मंत्री के आने पर उनका जोरदार स्वागत भी किया गया लेकिन उनकी ओर से विकास संबंधी कोई ठोस आश्वासन न मिलने से जनता खासी निराश हुई। हालांकि मंत्री की ओर से उन्हें इतना आश्वासन जरूर दिया गया है कि अगले माह 9 या10 अक्टूबर को वह फिर से आएंगे और एक-एक व्यक्ति की समस्या भी सुनेंगे। निरीक्षण के दौरान सभी विभागों के प्रमुख भी मौजूद रहे।

अवसियों क्षेत्र में डेरियों की तलाश
नगर विकास मंत्री ने सबसे पहले हरिहर नगर कालोनी का निरीक्षण किया। यहां सफाई तो ठीक मिली तो इस पर उन्होंने अधिकारियों से डेयरियों के बारे में पूछा. चूंकि दो सितंबर को जब वह निरीक्षण पर आए थे, तो यहां पर डेयरियां मिली थीं और उन्होंने इसे हटवाने के निर्देश दिए थे। उन्होंने पाया कि डेयरियां हट चुकी हैं, जिससे हर तरफ सफाई नजर आ रही है। वहीं भवन संख्या-ई-55 वैष्णव बिहार, हरिहर नगर के पूर्व, (सिंचाई विभाग की भूमि) जहां पूर्व में गोबर आदि जमा होने के कारण कीचड़ आदि हो गया था, पर मलबा आदि डलवाकर इसे समतल करा दिये जाने के कारण जलभराव आदि की समस्या भी खत्म होती नजर आई।

डस्टबिन रहे मौजूद
लार्ड मैहर स्कूल चौराहे के सामने स्थित रिक्त प्लाट एवं भवन सं या-ए 404 हरिहर नगर (मणि प्रभा निवास) के बगल स्थित खाली प्लॉट पर क्षेत्रीय निवासियों द्वारा डाले जा रहे कूड़े को रोके जाने हेतु उक्त स्थलों पर एक-एक डस्टबीन रखवाये जाने के निर्देश दिये गये थें, जिसके अनुरूप डस्टबीन रखे मिले.

10 दिन में हटवाएं डेयरी
हरिहर नगर, पटेल नगर तथा अजय नगर आदि क्षेत्र के भ्रमण के दौरान क्षेत्रीय लोगों द्वारा
अन्य स्थलों पर संचालित दूध डेयरियों को हटवाये जाने संबंधी मांग रखी गई। जिस पर नगर विकास मंत्री ने निर्देश दिए कि 10 दिन के अंदर डेयरियां हटाई जाएं।

कॉलोनियों को नियमित करे एलडीए
भवन सं या-247, पटेल नगर के सामने स्थित खाली प्लॉट पर पानी भरा मिला. निगम अधिकारियों की ओर से जानकारी दी गई कि हरिहर नगर, पटेल नगर समेत कई ऐसे क्षेत्र हैं, जो अनियोजित ढंग से बसे हैं. प्राइवेट कॉलोनाइजर द्वारा जल निकासी की कोई व्यवस्था नहीं की गई है. इस पर नगर विकास मंत्री ने निर्देश दिए कि लखनऊ विकास प्राधिकरण अनियोजित रूप से बसी ऐसी कालोनियों को नियमित करने संबंधी कदम उठाए. पटेल नगर स्थित तालाब की जमीन पर भवन निर्माण का मामला सामने आया. भवन स्वामियों को तत्काल नोटिस देने के निर्देश दिए गए.

 

Dikshant Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned