भारत बंद में कांग्रेस ने दिखाई अपनी ताकत, सपा-बसपा समेत कई दलों का मिला साथ

भारत बंद में कांग्रेस ने दिखाई अपनी ताकत, सपा-बसपा समेत कई दलों का मिला साथ

Ashish Pandey | Publish: Sep, 10 2018 10:35:17 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

छोटे शहरों में बंद का दिखा व्यापक असर, कई जिलों में दुकानें बंद कर व्यारियों ने भी किया समर्थन।

 

लखनऊ. सोमवार को भारत बंद का मिला जुला असर रहा। इस बंद का असर छोटे जिलों में अधिक तो बड़े जिलों में कम देखा गया। पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों और महंगाई को लेकर कांग्रेस समेत लगभग सभी विपक्षी दलों ने भाजपा की मोदी सरकार को घेरने की जोरदार कोशिश की। कांग्रेस की ओर से सोमवार को भारत बंद के आह्वान का असर बड़े शहरों में भले ही उतना प्रभावी नहीं रहा लेकिन छोटे जिलों में काफी प्रभावी रहा। बहराइच, श्रावस्ती, उन्नाव, कानपुर, महोबा, इटावा, सीतापुर, बाराबंकी में कांग्रेस, सपा, बसपा समेत विपक्षी दलों ने हाइवे-जाम किया वहीं यहां दुकानें बंद कर लोग भी बंद के समर्थन में साथ देते नजर आए। इस बंद में जो सबसे बड़ी बात सामने आई वह कांग्रेस, सपा, बसपा, रालोद समेत सभी विपक्षी दलों का एक साथ आना रहा। हालांकि कांग्रेस की ओर से किए गए भारत बंद के आवाहन का असर यूपी में मिला जुला रहा। खासतौर पर राजधानी व आस-पास के शहरों में इसका असर कम ही दिखा। हालांकि तमाम प्रदर्शन व नारों के जरिए विपक्ष सरकार को घेरने में कामयाब दिखा। कांग्रेस ने भारत बंद का आह्वान किया था जबकि, समाजवादी पार्टी ने तहसील मुख्यालयों में धरना-प्रदर्शन का फैसला किया था।

सोमवार सुबह राजधानी में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर, विधायक आराधना शुक्ला समेत अन्य कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं ने हजरतगंज स्थित दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर में माथा टेक कर आंदोलन की शुरुआत की। इसके बाद कांग्रेसियों ने पेट्रोल पंपों पर धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया। डालीगंज के आस-पास तमाम कांग्रेसियों ने प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ जमकर नारे लगाए। लखनऊ में प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर कार्यकर्ताओं के साथ तमाम बाजारों को बंद कराने पहुंचे। लखनऊ की जनपथ मार्केट, लालबाग मार्केट, अमीनाबाद मार्केट, चौक मार्केट, बालागंज मार्केट बंद कराने के लिए कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने लोगों से अपील की। कुछ देऱ तो दुकानें बंद रहीं लेकिन दोपहर बाद सभी दुकानें खुल गईं।

खुले रहे पेट्रोल पंप

लखनऊ में राज बब्बर के साथ नसीमुद्दीन सिद्दीकी भी सुबह बाजारों में बंद कराने निकले। इन लोगों ने जीपीओ से लेकर हजरतगंज तथा जनपथ में लोगों से दुकाने बंद करने का अनुरोध किया। शहर की सभी बड़े बाजार और पेट्रोल पंप खुले हुए हैं। इस बीच वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी की बेटी तथा प्रतापगढ़ के रामपुर खास से विधायक आराधना मिश्रा ने यहां पर हजरतगंज चौराहे पर एक पेट्रोल पंप को बंद कराया। कार्यकर्ताओं के साथ वहां धरने पर बैठ गईं। कांग्रेस के भारत बंद को 21 विपक्षी दलों का साथ मिला है। इनका भारत बंद पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के साथ रुपए में गिरावट और बढ़ती महंगाई पर था। राष्ट्रीय लोकदल, लोकतांत्रिक जनता दल समेत कई राजनीतिक दलों ने भी सरकार के खिलाफ बंद का समर्थन किया। राजधानी लखनऊ में भी इसका असर देखने को मिला।

बैल गाड़ी से पहुंचीं अन्नु टंडन

उन्नाव से पूर्व सांसद अन्नू टंडन और युवा नेता अंकित सिंह परिहार ने अलग ही तरह से प्रदशर्न किया। बैल गाडिय़ों पर सवार होकर कांग्रेसियों ने अपना विरोध जताया। अन्नू टंडन बैलगाड़ी पर सवार होकर विरोध में निकली। अंकित परिहार ने अपने साथियों के साथ पैदल ही मोटर साइकिल को खींच कर किया प्रदर्शन।

बाइक से पहुंचे राजीव शुक्ला

वहीं कानपुर में भी बंद का मिलाजुला असर रहा। शहर के मुख्य मार्केट में चहलपहल देखने को मिली। कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकाला और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। ताजनगरी आगरा में भी भारत बंद का असर नहीं दिखा। ज्यादातर बाजार खुले रहे, रोजमर्रा की तरह ही बाजारों में रौनक देखने को मिली। कानपुर में कांग्रेस से पूर्व राज्यसभा सदस्य तथा केंद्रीय मंत्री राजीव शुक्ला ने पेट्रोल में वृद्धि के विरोध में बाइक की सवारी की। उनके साथ ही पूर्व केंद्रीय मंत्री श्रीप्रकाश शुक्ला भी पैदल मार्च में शामिल थे।

यहां दिखा व्यापक असर
कांग्रेस का गढ़ माने जाने वाले रायबरेली-अमेठी में बंद का व्यापक असर दिखा। सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली में शहर की मुख्य सुपर मार्केट और सब्जी मंडी बंद रहे। राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी में भी भारत बंद का असर देखने को मिला। व्यापारियों ने बंद का समर्थन करते हुए दुकाने बंद रखीं। सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। अमेठी में कांग्रेसियों ने जोरदार प्रदर्शन करते हुए पीएम मोदी का पुतला फूंका।

Ad Block is Banned