scriptMP new CM Mohan Yadav has apologized for insulting Mata Sita and Ayodh | MP के नए CM मोहन यादव माता सीता और अयोध्या के अपमान पर मांग चुके हैं माफी, यह दिया था बयान | Patrika News

MP के नए CM मोहन यादव माता सीता और अयोध्या के अपमान पर मांग चुके हैं माफी, यह दिया था बयान

locationलखनऊPublished: Dec 11, 2023 06:11:37 pm

Submitted by:

Markandey Pandey

मध्यप्रदेश विधान सभा चुनाव के बाद विधायक दल की बैठक में प्रदेश में उच्च शिक्षा मंत्री रह चुके मोहन यादव को मुख्यमंत्री के लिए चुन लिया गया है। करीब साल भर पहले इसी मोहन यादव का पुतला प्रदेश भर में जलाया गया था। बताते हैं पूरा प्रकरण।

mohan_yadav.jpg
एमपी ने नए सीएम मोहन यादव
Ayodhya and New MP CM Mohan Yadav: मोहन यादव उच्च शिक्षा मंत्री होने के साथ ही उच्च शिक्षित भी बताए जाते हैं। वह साल 2013 से उज्जैन दक्षिण से लगातार विधायक हैं और अब प्रदेश की बागडोर सम्हालने जा रहे हैं। साल 2017 के चुनाव के दौरान उनपर अपशब्दों के प्रयोग का आरोप लगा था। जिसमें उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी चेतन यादव को पप्पू कहने के साथ ही बाप का दूध पीने वाला बताया था। इसके अलावा औकात दिखाने की बात कही थी जिसे लेकर मोहन यादव की काफी छिछालेदार हुुई थी।
यह भी पढ़ें

राम मंदिर के दर्शन के बाद भक्तों को परकोटे से मिलेगा प्रसाद, दो दिवसीय बैठक में बनी योजना

इतन ही नहीं, उनका एक वीडियो भी वायरल हुआ था जिसमें माता सीता को वह अपशब्द कहते दिखाई दिए थे। उन्होंने कहा था कि जिस माता सीता को रावण हरण करके ले गया था उनको रावण से बड़ा युद्ध लडक़र राम वापस ले आए। भगवान राम ने सीता के गर्भवती होने के बावजूद रघुकुल की मर्यादा के कारण छोड़ दिया और उनको जंगल में अपने बच्चे पैदा करने पड़े। आज के दौर में ऐसा होने पर तलाक हो जाता है। भगवान राम के सामने उनकी पत्नी ने शरीर छोड़ा और शरीर छोडऩे को आत्महत्या की तरह माना जाता है।
यह भी पढ़ें

रघुवंशियों के आराध्य हैं सूर्य देव अयोध्या में लगाया जा रहा सूर्य स्तंभ

मोहन यादव के इस बयान के बाद प्रदेश भर में उनका पुतला फूंका गया था और लोग कहने लगे थे कि यह कैसा सनानती नेता है। उनके बयान के खिलाफ अयोध्या के संतों ने भी विरोध किया था। वास्तव में यह वीडियो कारसेवकों के सम्मान समारोह का था। मध्यप्रदेश के नागदा खाचरोद क्षेत्र में कारसेवकों का सम्मान समारोह आयोजित किया गया था जिसमें उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव बतौर मुख्य अतिथि के रुप में आए थे। हांलाकि विरोध होने पर उन्होंने अपने इस बयान के लिए माफी भी मांग लिया था।

ट्रेंडिंग वीडियो