मुख्तार अंसारी की मोहाली व लखनऊ कोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेसिंग से हुई पेशी

मुख्तार अंसारी की बांदा जेल से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पंजाब के मोहाली और लखनऊ कोर्ट में पेशी (mukhtar Ansari Appear Court) हुई। इसके पहले मऊ कोर्ट मुख्तार की पेशी हुई थी जहां से उन्हें जमानत (Mukhtar Ansari Bail Granted) मिल चुकी है।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

लखनऊ. पंजाब आने के बाद बांदा जेल लाए जाने के बाद मुख्तार अंसारी के खिलाफ मामलों की सुनवाई तेज हो गई है। सोमवार को उन्हें बांदा जेल से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये दो मामलों में पेश (mukhtar Ansari Appear Court) किया गया। एक मामला पंजाब की मोहाली कोर्ट (Mohali Court) में रंगदारी, जबकि दूसरा लखनऊ कोर्ट (Lucknow Court) में लखनऊ में जेलर और डिप्टी जेलर पर हमले के 21 साल पुराने में पेश किये गए। पेशी के दौरान बांदा जेल में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए थे। इसके पहले मऊ के एक मामले में पेशी पर मुख्तार अंसारी को जमानत (Mukhtar Ansari Bail Granted) मिल चुकी है।


लखनऊ के जिस मामले में पेशी हुई उसमें उनपर जेलर पर हमले जैसे संगीन आरोप हैं। तत्कालीन जेलर एसएन द्विवेदी की ओर से लखनऊ के आलमबाग थाने में सन 2000 में रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। रिपोर्ट में आरोप लगाया गया था कि पेशी से वापस लौटे एक बंदी की जेल में ही मुख्तार के साथ के लोग बुरी तरह पिटाई करने लगे। जेलर एसएन द्विवेदी व डिप्टी जेलर बैजनाथ राम चौरसिया और कुछ बंदीरक्षकों ने बचाने की कोशिश की तो जेल अधिकारियों पर पथराव भी किया गया। इस मामले में यूसुुफ चिश्ती, आलम, कल्लू पंडित और लालजी यादव आदि के साथ ही मुख्तार अंसारी को भी नामजद किया गया था। आज इस मामले में इनपर आरोप तय होने थे।


डाॅक्टर के पास पहुंचा बाहुबली

कहा जा रहा है कि बांदा जेल मुख्तार अंसारी का समय तनहाई में गुमसुम गुजर रहा है। बाहुबली को कमर और घुटनों में दर्ज की शिकायत (Mukhtar Ansari Health Update) के बाद जिला अस्पताल के डाॅक्टरों के तीन सदस्यी पैनल को जेल बुलाकर उनकी सेहत का मुआयना (Mukhtar Ansari Health Checkup in Jail) कराया गया। इस टीम में फिजिशियन, नेत्र सर्जन और हड्डी रोग विशेषज्ञ भी शामिल थे।


तन्हाई में मुख्तार खौफ में मुलाकाती

मुख्तार अंसारी को जेल में एक आम कैदी की तरह सुविधाएं मिल रही हैं और बैरक नंबर 16 में बिस्तर फर्श पर लगा है। मुख्तार से मिलने के लिये उनके करीबी परेशान हैं, लेकिन ये मुलाकाती मुख्तार पर लगाए गए कड़े पहरे और सीसीटीवी सर्विलांस से खौफ में हैं। रविवार को कोरोना गाइडलाइन का हवाला देकर लखनऊ के वकील को मिलने नहीं दिया गया। संभावना जतायी जा रही है कि अधिवक्ता और परिवार के लोगों से मुख्तार की मुलाकात वीडियो कांफ्रेंसिंग से कराई जा सकती है।


जेल में रोजा रखेंगे मुख्तार

कहा जाता है कि मुख्तार अंसारी पांच वक्त के नमाजी और रोजे के पाबंद हैं और दो दिन बाद शुरू हो रहे रमजान में भी मुख्तार जेल में रोजा रखेंगे (Mukhtar Ansari Fasting Ramadan)। इस संभावना को देखते हुए कैंटीन में इफ्तार व सहरी के सामान मंगाए गए हैं। वह जेल के नियमों के तहत इफ्तार व सहरी की खाद्य समाग्री की मांग कर सकते हैं।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned