मुलायम सिंह यादव ने भाजपा सरकार से किया बड़ा सवाल, सबकी बोलती हुई बंद

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव इन दिनों सदन में काफी एक्टिव दिख रहे हैं।

By: Abhishek Gupta

Published: 02 Aug 2019, 04:30 PM IST

लखनऊ. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के संरक्षक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) इन दिनों सदन में काफी एक्टिव दिख रहे हैं। आखिर बार उन्होंने जहां किसानों के हित को लेकर सरकार से सवाल किए थे वहीं इस बार उन्होंने मौजूदा सत्र की अवधि को बढ़ाने को लेकर लोकसभा (Lok Sabha) से सवाल किया है। मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) ने आरोप लगाया कि इसमें सरकार की साजिश है। हालांकि, सरकार ने इसके जवाब में तमाम कार्य बाकी होेने का हवाला दिए जाने की बात कही है। आपको बता दें कि 17वीं लोकसभा (17th Lok Sabha) का पहला सत्र नए सदस्यों के शपथग्रहण के साथ 17 जून को शुरू हुआ था व इसे 26 जुलाई को समाप्त हो जाना चाहिए था, लेकिन इसकी अवधि बढ़ाकर सात अगस्त कर दी गई है।

ये भी पढ़ें- Unnao Gangrape: सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद पीड़िता के परिजनों को तुरंद दिया गया इतने लाख रुपए का चेक

सपा संरक्षक ने किया सवाल-
खराब स्वास्थ्य होने के बावजूद समाजवादी पार्टी संरक्षक मुलायम सिंह यादव मौजूदा सत्र में भाग ले रहे हैं। गुरुवार को भी वे सदन में मौजूद थे। इस दौरान दिवालिया कानून के संशोधन पर चर्चा हो रही थी। तभी उन्होंने सत्र की अवधि बढ़ाए जाने को लेकर सवाल खड़ा कर दिया। उन्होंने कहा कि लोकसभा देश की विधानसभाओं के लिए आदर्श मानी जाती है, लेकिन सदन में ज्यादातर सदस्य मौजूद ही नहीं हैं। कई लोग शादी तक में नहीं जा पा रहे हैं। सदन के संचालन के पीछे सरकार की साजिश है। इससे जनता का पैसा बर्बाद किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि क्या कोई वाजिब कारण है इसका। यदि है तो मुझे बताएं। सपा संरक्षक की बात कांग्रेस नेताओं व तृणमूल कांग्रेस नेताओं ने समर्थन किया।

ये भी पढ़ें- इस पूर्व विधायक के बटे ने दो भाईयों को मारी गोली, मामले से पुलिश प्रशासन में मचा हड़कंप

आया यह जवाब-
मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) द्वारा पूछे गए सवाल का संसदीय कार्य राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने जवाब दिया और कहा कि सदन में पर्याप्त संख्या में सदस्य मौजूद हैं। उन्होंने कहा कि मुलायम सिंह यादव वरिष्ठ सदस्य हैं, हम उनकी सम्मान करते हैं, लेकिन इस बात से हम उनसे सहमत नहीं हैं। कई महत्वपूर्ण विधायी कार्य हैं, जिनसे आम जनता को फायदा होगा। विपक्ष भी मांग करता रहा है कि संसद में कामकाज साल में कम से कम 100 दिन होने चाहिए।

ये भी पढ़ें- मेडिकल बुलेटिन में डॉक्टरों ने पीड़िता की हालत पर कही बड़ी बात, SC के एयरलिफ्ट के सुझाव पर दिया यह बयान

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned