नलकूप परीक्षा निरस्त होने के बाद भड़के अभ्यर्थी, जमकर किया हंगामा

नलकूप परीक्षा निरस्त होने के बाद भड़के अभ्यर्थी, जमकर किया हंगामा

Prashant Srivastava | Publish: Sep, 02 2018 03:27:26 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

सोशल मीडिया पर पेपर वायरल होने के कारण नलकूप चालक चयन परीक्षा निरस्त कर दी गई।

लखनऊ. सोशल मीडिया पर पेपर वायरल होने के कारण नलकूप चालक चयन परीक्षा निरस्त कर दी गई। इससे आक्रोशित अभ्यर्थियों ने रविवार को राजधानी में जमकर हंगामा किया। उन्होंने प्रशासन से जल्द ही परीक्षा की तारीख घोषित करने की मांग की। ये परीक्षा 3210 पदों पर होने वाली थी लेकिन सोशल मीडिया पर पेपर लीक होने से परीक्षा स्थगित कर दी गई। हालांकि, यूपीएसएसएससी के अध्यक्ष सीबी पालीवाल ने कहा कि जल्द ही परीक्षा की नई तिथि का एलान किया जाएगा। मेरठ में पूरी साजिश के मास्टरमाइंड सचिन समेत 11 लोगों की गिरफ्तारी की गई है। इनके पास से कुछ पेपर व कैश बरामद हुआ है।

upsssc ने रविवार को आने वाले प्रश्नपत्रों को परीक्षा वाले जिलों की ट्रेजरी में रखवाए थे। सूत्रों ने बताया कि अभी पेपर परीक्षा केंद्र पर नहीं भेजे गए थे। ऐसे में किसी जिले की ट्रेजरी या पेपर की छपाई करने वाले प्रिंटिंग प्रेस से पेपर लीक किए जाने की आशंका जताई जा रही है।

क्या है पूरा मामला


उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने यूपी में 3210 ट्यूबवेल ऑपरेटर की भर्ती परीक्षा आयोजित की थी। यूपीपीएससी ने 2018 में 3210 ट्यूबवेल ऑपरेटर पदों की घोषणा की थी। उम्मीदवारों की स्क्रीनिंग लिखित परीक्षा और साक्षात्कार के माध्यम से किया जाना था। नकल माफिया ने इसी भर्ती परीक्षा में सेंध लगाने की तैयारी की थी। यूपी में जगह-जगह पर ट्यूबवेल ऑपरेटर भर्ती परीक्षा में नकल कराने के लिए पेपर आउट कराने और माइक्रोफोन डिवाइस के जरिए नकल कराने की तैयारी कर ली थी। यूपी एसटीएफ टीम ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए कई जगह पर नकल माफिया की धरपकड़ की। मेरठ एसटीएफ टीम ने भी ट्यूबवेल ऑपरेटर भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले गिरोह के सात सदस्यों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से भारी मात्रा में डिवाइस और कुछ अन्य सामान बरामद किया गया है। एसटीएफ पता करने में जुटी है कि पर्चा कहां से आउट हुआ है।

शिक्षक भर्ती अभ्यर्थी भी कर रहे हंगामा

शिक्षक भर्ती परीक्षा पास करने के बावजूद काउंसलिंग के लिए नहीं बुलाए गए अभ्यर्थियों ने जमकर हंगामा किया। निशातगंज स्थित एससीईआरटी कार्यालय पर अभ्यर्थियों ने हंगामा किया। पहले कर्मचारियों ने अंदर से दरवाजा बंद कर लिया था। बाद में पुलिस भी पहुंच गई थी। दिलाया लेकिन वे नहीं माने। रविवार को सहायक अध्यापक पद पर शिक्षकों की भर्ती के लिए काउंसलिंग शुरू हुई तो सैकड़ों अभ्यर्थी निदेशालय पर पहुंच कर नारेबाजी करने लगे।

Ad Block is Banned