समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के प्रवक्ताओं की लिस्ट जारी

समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के प्रवक्ताओं की लिस्ट जारी

Mahendra Pratap | Publish: Sep, 12 2018 02:25:02 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के प्रवक्ताओं की लिस्ट जारी

लखनऊ. समाजवादी पार्टी में सम्मान की कमी के चलते खुद को इस पार्टी से दूर कर शिवपाल सिंह यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा का गठन किया। लंबे समय से सपा पार्टी में अनदेखी झेलने के बाद शिवपाल ने अपनी अलग पार्टी बनाई और अब उन्होंने सोशल मीडिया पर समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के प्रवक्ताओं की लिस्ट भी जारी कर दी है। इस लिस्ट में सपा सरकार में राज्य मंत्री रहे शारदा प्रताप शुक्ला का नाम सबसे ऊपर है। इनके अलावा दो बार सपा शासन में विधायक रह चुके सैयद शादाब फातिमा, दीपक मिश्र, सुधीर सिंह, नवाब अली अकबर, लविवि के पूर्व अध्यक्ष व समाजवादी युवजन सभा के प्रदेश अध्यक्ष अभिषेक सिंह 'आशू', प्रो. दिलीप यादव, फरहत रईस खान और अरविंद यादव का नाम शामिल है।

 

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले शिवपाल सिंह यादव समाजवादी सेक्युलर मोर्चा को एक स्ट्रांग पार्टी के रुप में उतारने की पूरी कोशिश में हैं। जारी की गई प्रवक्ताओं की लिस्ट में उन लोगों के नाम हैं जिनके खिलाफ अखिलेश यादव ने कार्रवाई की थी। लिस्ट में टॉप पर शारदा प्रताप शुक्ला का नाम है, जो 2017 के विधानसभा चुनाव में टिकट कटने के बाद सपा के विरोध में उतरे थे। इसके बाद इन्हें पार्टी से बाहर कर दिया गया था।

बता दें कि समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाने के बाद शिवपाल सिंह यादव ने इसे धर्मयुद्ध करार देते हुए कहा कि जीत हमेशा सच की ही होती है। वहीं उन्होंने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए कहा कि रामायाण और महाभारत का जिक्र किया था।

2022 में सपा का नुकसान करने की तैयारी

2019 लेकसभा चुनाव में सेक्युलर मोर्चा के रास्ते उतरने वाले शिवपाल सिंह यादव 2022 विधानसभा चुनाव में भी सपा का नुसकान करने की पूरी तैयारी में है। मंगलवार को हुए कार्यक्रम के दौरान शिवपाल को 2022 में सीएम बनाने के स्लोगन गाए गए। यहां तक की एक गाना भी गाया गया जिसके बोल कुछ यूं थे- 'लोहिया जैसा माथा है, शेर जैसा सीना है.. नाम है शिवपाल...समाजवादी मोर्चा का ये असली नगीना हैं। 2022 में सीएम शिवपाल को बनाना है, हमें ये वादा निभाना है। ये कृष्ण बनकर आए हैं, हमें सुदामा बनकर चलना है।'

Ad Block is Banned